Sachitra Hindi Angreji Bal Kosh

Author: Kusum Khemani
As low as ₹335.75 Regular Price ₹395.00
You Save 15%
In stock
Only %1 left
SKU
Sachitra Hindi Angreji Bal Kosh
- +

इस कोश के लिए हमने शब्दों का चयन विभिन्न राज्यों की हिन्दी भाषा की पाठ्य-पुस्तकों से ही नहीं, सभी विषयों की पाठ्य-पुस्तकों और बाल पत्र-पत्रिकाओं से किया है। इसमें लगभग 6,000 शब्द हैं। शब्दों के अर्थ सरल हों, इसके लिए हमने अनेक विद्यालयों के बच्चों से मिलकर उनके स्तर की परिभाषाएँ करने की चेष्टा की है। हमने शब्दों के अर्थों के साथ उनके व्याकरण, वाक्य, मुहावरे, विलोम आदि भी दिए हैं ताकि बच्चे सही शब्दों का प्रयोग सहजता के साथ करना सीखें। हिन्दी अर्थ के साथ, एक अंग्रेज़ी शब्द भी पर्यायवाची के रूप में देने के अनेक अनुरोध लगातार हमारे पास आते रहे हैं। यह एक अत्यन्त श्रमसाध्य कार्य था, क्योंकि किसी भी शब्द का दूसरी भाषा में पर्यायवाची ढूँढ़ना कठिन होता है, ऊपर से हिन्दी और अंग्रेज़ी तो एकदम भिन्न घरानों की भाषाएँ हैं। फिर भी हमने यथाशक्ति प्रयास किया है कि हम अपने बाल-पाठकों को यह सुविधा मुहैया करवाएँ।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2014
Edition Year 2014, Ed. 1st
Pages 191p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Radhakrishna Prakashan
Dimensions 25 X 19 X 1.5
Write Your Own Review
You're reviewing:Sachitra Hindi Angreji Bal Kosh
Your Rating
Kusum Khemani

Author: Kusum Khemani

डॉ. कुसुम खेमानी

जन्म : 19 सितम्बर, 1944

शिक्षा : एम.ए. (प्रथम श्रेणी), पीएच.डी., कलकत्ता विश्वविद्यालय।

प्रकाशन : ‘सचित्र हिन्दी बालकोश’, ‘हिन्दी-अॅंग्रेज़ी बालकोश’ (कोश); ‘हिन्दी नाटक के पाँच दशक’ (आलोचना); ‘सच कहती कहानियाँ’, ‘एक अचम्भा प्रेम’, ‘अनुगूँज ज़िन्दगी की’ (कहानी-संग्रह); ‘एक शख़्स कहानी-सा’ (जीवनी); ‘कहानियाँ सुनाती यात्राएँ’ (यात्रा-वृत्तान्त); ‘कुछ रेत...कुछ सीपियाँ...विचारों की’ (ललित निबन्ध); ‘लावण्यदेवी’, ‘जड़िया बाई’ (उपन्यास)।

अनुवाद एवं सम्पादन : ‘जन-अरण्य’ (उपन्यास, शंकर), ‘चश्मा बदल जाता है’ (उपन्यास, आशापूर्णा देवी), ज्योतिर्मयी देवी के कहानी-संग्रह का अनुवाद एवं सम्पादन, ‘वागर्थ’ का सम्पादन। ‘लावण्यदेवी’ उपन्यास का अॅंग्रेज़ी, बांग्ला, नेपाली एवं मलयालम में अनुवाद। ‘कहानियाँ सुनाती यात्राएँ’ बांग्ला, राजस्थानी एवं मलयालम में प्रकाशित। ‘लावण्यदेवी’ उपन्यास का तमिल में डॉ. एन. जयश्री द्वारा एवं तेलुगू में लावण्य नारला द्वारा शोध एवं अनुवाद।

‘सच कहती कहानियाँ’ की कथाभाषा पर डॉ. सुहासिनी (तमिल), करमजीत कौर (पंजाबी), विनीता सिंह (हिन्दी) एवं अंजना कुकरैती (कन्नड़) द्वारा शोध। ‘रश्मिरथी माँ’ कहानी पर बांग्ला में टेलीफ़िल्म का निर्माण। ‘साहित्य में उच्च मूल्यों की स्थापना’ (सन्दर्भ : ‘लावण्यदेवी’ उपन्यास) विषय पर औरंगाबाद यूनिवर्सिटी द्वारा सेमिनार आयोजित।

सम्मान : ‘कुसुमांजलि साहित्य सम्मान’, ‘साहित्य भूषण सम्मान’, ‘हरियाणा गौरव सम्मान’, ‘भारत निर्माण सम्मान’, ‘रत्नादेवी गोयनका वाग्देवी पुरस्कार’, ‘पश्चिम बंग प्रान्तीय मारवाड़ी सम्मेलन पुरस्कार’, ‘कौमी एकता पुरस्कार’, ‘भारत गौरव सम्मान’, ‘समाज बन्धु पुरस्कार’ आदि।

Read More
Books by this Author
Back to Top