Sheet Sahasi Hemant Lok

Author: Navnita Devsen
Translator: Sushil Gupta
You Save 15%
Out of stock
Only %1 left
SKU
Sheet Sahasi Hemant Lok

संयुक्त परिवार में दिनोंदिन बढ़ती दरार शहरी मध्यवित्त बंगाली लोगों के जीवन और मानसिकता पर एक प्रचंड झंझावात के रूप में हमलावर हो उठी है, जिसने अत्यन्त सफल सन्तानों की गर्भधारिणी अनगिनत माताओं को एक नए-निराले वानप्रस्थ के सामने ला खड़ा किया
है।

जो औरतें, ज़िन्दगी-भर सपना देखती हैं कि उम्र के आख़िरी पड़ाव पर वे अपनी गृहस्थी की सिरमौर होंगी; अपने पोते-पोतियों, नाती-नातिनों में मग्न रहकर, बाक़ी उम्र गुज़ार देंगी, आज के दौर में वही औरतें आश्रय की तलाश में भटकने को लाचार हैं। जीवन की ढलती साँझ में उन लोगों के बचे-खुचे दिन, नितान्त स्वजनहीन, अनजान-अपरिचित दिगन्त की ओर अभिमुख हैं। उस दिगन्त में न तो घर-गृहस्थी है, न रसोई, न पूजा-घर। उनके हिस्से में बचा रहता है, घंटी बजने पर खाने के कमरे तक जाकर, बस, लम्बी क़तार में खड़े हो जाना।

इसके बावजूद, इन सबके बीच भी, ये औरतें कई-कई उपायों से अपनी ज़िन्दगी के मायने तलाश करने की कोशिश करती रहती हैं। ज़िन्दगी के साठ साल गुज़ारकर ये औरतें मानवता के हेमन्ती बाग़ान में जा पहुँची हैं, जहाँ का अगला मौसम होता है—शीत! गहनतम बर्फ़ीला मौसम। ऐसे ही लोगों के सुख-दु:ख, प्यार-सपनों की अचीन्ही, अनन्य, अन्तरंग व्यथा-कथा से बुना हुआ है नवनीता देव सेन का यह विलक्षण उपन्यास।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2009
Edition Year 2009, Ed. 1st
Pages 139p
Translator Sushil Gupta
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Dimensions 22 X 14.5 X 1.5
Write Your Own Review
You're reviewing:Sheet Sahasi Hemant Lok
Your Rating

Author: Navnita Devsen

नवनीता देव सेन

जन्म : 13 जनवरी, 1938

दुनिया में आते ही कविगुरु रवीन्द्रनाथ ने नाम दिया—नवनीता! घर में साहित्यिक परिवेश। बचपन में ही लेखन का श्रीगणेश हो गया।

शिक्षा: एम.ए., पीएच.डी.।

बारह वर्ष की उम्र में पिता नरेन देव और माँ राधारानी देवी के साथ यूरोप-यात्रा।

पहला काव्य-संग्रह ‘प्रथम प्रत्यय’। पहला उपन्यास ‘आमि अनुपम’। साहित्य की हर विधा में लेखन। आपकी कहानी, उपन्यास, भ्रमण-वृत्तान्त, निबन्ध, कविता के साथ-साथ रम्य-साहित्य और विनोद कथाओं ने बांग्ला साहित्य जगत में अपनी अलग जगह बनाई है। ‘करुणा तोमार कौन पथ दिए’, ‘गल्प-गुजब’, ‘नटी नवनीता’, ‘प्रवासे दैवेर वशे’, ‘हे पूर्ण तव चरणेर काछे’, ‘सीता थेके शुरू’ आदि उल्लेखनीय पुस्तकें हैं।

सम्मान : ‘साहित्य अकादेमी पुरस्कार’ के अलावा भारतीय भाषा परिषद का पुरस्कार, ‘बंगीय साहित्य परिषद पुरस्कार’, ‘पद्मश्री’,‘महादेवी वर्मा पुरस्कार’आदि से सम्मानित।

Read More
Books by this Author
Back to Top