Dhoop Ki Munder

Author: Anagh Sharma
As low as ₹135.00 Regular Price ₹150.00
You Save 10%
In stock
Only %1 left
SKU
Dhoop Ki Munder
- +

एक बदले ज़माने और बदले परिवेश में कुछ ऐसा भी होता है जो उसे पूरी तरह अजनबी नहीं होने देता, बल्कि पूर्व से वर्तमान को किसी पुल की तरह जोड़ता प्रतीत होता है। ऐसा जिन युवा रचनाकारों को पढक़र, उनसे बात करते या उनका कहा सुनते मुझे लगा है उनमें अनघ महत्त्वपूर्ण हैं। ऐसा इस कारण नहीं कि वे बीते ज़माने (एक प्रकार से मेरा ज़माना) से सम्बद्ध विषयों या एक प्रकार का नॉस्टेल्जियाग्रस्त लेखन करते हों। वह उस जीवन और उन समस्याओं को ही विषय बनाते हैं जो उन्हें ख़ुद दरपेश हैं, और ख़ुद मेरे लिए अपने लेखन में जिनकी कल्पना सम्भव नहीं। ऐसा शायद इस कारण है कि उनके लेखन का मुख्य स्वर समानुभूति (एम्पथी) का स्वर होता है जिसे अभिव्यक्त करने की उनके पास सही-सही भाषिक कुशलता है। आश्चर्य होता था (जो अब किसी हद तक होना बन्द हो गया है) कि यह योग्यता अधिकांश ऐसे लोगों में होती है जो साहित्य को शिक्षा का एक विषय मानकर नहीं पढ़ते, न उसमें डिग्रीयाफ्ता होते हैं। शायद इस कारण वे अपने विषय और भाषा में अपनाइयत को ज़्यादा सहज रूप से पाठक के सामने रख सकते हैं। अनघ को पढ़ते हुए यह अनुभव होता है कि लेखन के विषय को पूरी स्वतंत्रता से लिखा गया है, जीवन के उस पक्ष को प्रस्तुत करने के लिए जो उनके लेखक-अवतार ने मानो उसे जीते हुए ग्रहण किया है।

अनघ एक भागदौड़-भरा व्यस्त जीवन जीते हुए अपना लेखन करते हैं, जिसमें असंख्य सम्भावनाएँ हैं। उनकी भाषा विशेषकर आकर्षित करती है जिसमें संवाद और विवरण के बीच वह एक प्रकार का विशेष सन्तुलन बनाकर चलते हैं। यह तो आरम्भ है, यात्रा के लिए उन्हें बहुत बधाई।    

—मंजूर एहतेशाम

More Information
Language Hindi
Format Hard Back, Paper Back
Publication Year 2019
Edition Year 2019, Ed. 1st
Pages 158p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Dimensions 22 X 14.5 X 1
Write Your Own Review
You're reviewing:Dhoop Ki Munder
Your Rating
Anagh Sharma

Author: Anagh Sharma

अनघ शर्मा

अनघ शर्मा का जन्म 27 नवम्बर, 1984 को उत्तर प्रदेश के फ़िरोज़ाबाद ज़िले में हुआ। प्रारम्भिक शिक्षा वहीं से हुई। उत्तर प्रदेश टेक्निकल यूनिवर्सिटी (नोएडा कैम्पस) से एमबीए किया। उनकी पहली कहानी ‘नक़्श फ़रियादी’ 2013 में ‘समकालीन भारतीय साहित्य’ पत्रिका में प्रकाशित हुई। पहला कहानी-संग्रह ‘धूप की मुँडेर’ 2019 में और दूसरा कहानी-संग्रह ‘आवाज़ें काँपती रहीं’ 2022 में प्रकाशित हुआ। ‘नीली दीवार की परछाइयाँ’ उनका पहला उपन्यास है। हिन्दी की लगभग सभी प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में कहानियाँ प्रकाशित हुई हैं। फ़िलहाल नेशनल हॉस्पिटैलिटी इंस्टीट्यूट, मस्कट (ओमान) में होटल मैनेजमेंट पढ़ा रहे हैं।

ई-मेल : anaghsharma@hotmail.com

Read More
Books by this Author
Back to Top