Author
Ramdhari Singh Dinkar

Ramdhari Singh Dinkar

35 Books

रामधारी सिंह ‘दिनकर’ राष्ट्रकवि दिनकर छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओं में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल शृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति। वे संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेज़ी और उर्दू के भी बड़े जानकार थे। वे ‘पद्मविभूषण’ की उपाधि सहित 'साहित्य अकादेमी पुरस्कार', 'ज्ञानपीठ पुरस्कार' आदि से सम्मानित किए गए थे।

All Ramdhari Singh Dinkar Books
Back to Top