Sab Ki Aawaz Ke Parde Mein

Poetry
500%
() Reviews
As low as ₹295.00
In stock
SKU
Sab Ki Aawaz Ke Parde Mein
- +

बीसवीं सदी की हिन्दी कविता में अपनी धुन और आत्महानि की सीमा तक जाकर, लीक छोड़ लिख पानेवाले कम थे लेकिन शायद विष्णु खरे उन्हीं में गिने जाएँ। विष्णु खरे के साथ एक बड़ी घटना यह रही कि उनकी कविता हिन्दी के विभिन्न समसामयिक सम्प्रदायों को तुष्ट नहीं कर पाई। उनके न तो गुरु-संरक्षक रहे, न मित्र-प्रोत्साहक और न भक्त-शिष्य। ऐसी लगभग सर्वसम्मत उपेक्षा के बावजूद कहीं-कहीं उनकी कविताएँ न केवल याद रखी गईं, बल्कि कभी-कभी उनकी माँग भी की जाती रही, यही कोई कम ग़नीमत नहीं है।

अपने और दूसरों के लिए और मुश्किलें पैदा करते हुए विष्णु खरे एक ऐसी भाषा का इस्तेमाल करते हैं जिसमें भूले-भटके काव्यावेश आ जाता है, वरना अक्सर उसमें निम्न-मध्यवर्गीय संकेतों और ब्याजशब्दावली का बाहुल्य रहता है और कभी उनकी ज़ुबान बातचीत की तरह आमफ़हम, दफ़्तरी, अख़बारी, तत्समी या गवेषणात्मक तक हो जाती है और ख़तरनाक ढंग से कहानी, गद्य, वर्णन, ब्योरों, रपट आदि के नज़दीक पहुँचती है और यह तय करना कठिन होता है कि उस निर्विकार-सी वस्तुपरकता में तथ्याभास का व्यंग्य है, करुणा है या उन्हें कविता लिखना ही नहीं आता।

कविता के विषयों को लेकर भी उनके यहाँ एक कैलाइडोस्कोप की बहुबिम्‍बदर्शी विविधता है जो उनकी हर चीज़ में दिलचस्पी के दख़ल की पैदाइश है और इस ज़िद की कि सब कुछ में जो कविता है, उसका कुछ हिस्सा हासिल करना ही है। दुनिया उनके आगे बाज़ीचा-ए-इत्‍फ़ाल नहीं, उसमें जन्म ले चुके आदमी का कौतूहल और कशमकश है। विष्णु खरे को भी कवियों का कवि कहकर दाख़िल-दफ़्तर कर देना सुविधाजनक है लेकिन वे उन सजगों के कवि हैं जिनकी तादाद अन्दाज़ से कहीं ज़्यादा है। भारतीय आदमी और मानव के लिए उनकी प्रतिबद्धता असन्दिग्ध है लेकिन वे सारे ऐहिक और अपौरुषेय व्यापार, माया और लीला, यथार्थ और मिथक को जानने के प्रयास के प्रति भी वचनबद्ध हैं, क्योंकि हर बार उसे नई तरह से जानना चाहे बिना आदमी और अस्तित्व के पूरे बखेड़े को समझने की कोशिश अधूरी ही रहेगी। इसमें अनुभववाद या दूर की कौड़ी लाने का लाघव-प्रदर्शन नहीं है, समूचे जीवन से वाबस्तगी की बात है।

इसीलिए विष्णु खरे की कविता न तो आदमी और समाज से घबराकर ‘शुद्ध कला’, अध्यात्म या रहस्यवाद में पलायन करती है और न कायनात को मात्र भौतिक मान किसी आसान ‘वाद’ की शरण लेती है। उनके यहाँ अनुभव और कविता ‘प्‍योर’ तथा ‘अप्लाइड’ दोनों अर्थों में हैं क्योंकि दोनों प्रकारों का एक-दूसरे के बिना अस्तित्व और गुज़ारा सम्भव नहीं है। वे वाक़ई अभिव्यक्ति के सारे ख़तरे उठाने को मनुष्य और कवि होने की सार्थकता मानते हैं। इस संग्रह की कविताओं में भी वे अपने कथ्य, भाषा तथा शैली को जोखिम-भरी चुनौतियों और परीक्षाओं के सामने ले गए हैं। वे कविता को बाँदी या देवदासी की तरह नहीं, मानव-प्रतिभा की तरह हर काम में सक्षम देखना चाहते हैं क्योंकि उनका मानना है कि ऐसी कोई स्थिति नहीं है जिसकी अपनी कोई अर्थवत्ता न हो—हर आवाज़ के पीछे जो दुनिया है, विष्णु खरे की यदि कोई महत्त्वाकांक्षा है तो उसे ही अभिव्यक्ति देने का प्रयास करने की लगती है।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Edition Year 2018, Ed. 3rd
Pages 119p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Radhakrishna Prakashan
Write Your Own Review
You're reviewing:Sab Ki Aawaz Ke Parde Mein
Your Rating

Editorial Review

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum is that it has a more-or-less normal distribution of letters, as opposed to using 'Content here

Vishnu Khare

Author: Vishnu Khare

विष्णु खरे

जन्म : 9 फ़रवरी, 1940; छिन्दवाड़ा (म.प्र.)।

विष्णु खरे की प्रारम्भिक रचनाएँ ग.मा. मुक्तिबोध द्वारा नागपुर के साप्ताहिक ‘सारथी’ (1956-57) में प्रकाशित। फिर वह ‘वसुधा’, ‘कृति’, ‘कहानी’, ‘नई कविता’, ‘धर्मयुग’ आदि में प्रकाशित हुए। ‘आलोचना’ में 1969-70 में छपी कविता ‘टेबिल’ के बाद से उनकी अपनी कविता और शेष हिन्दी पद्य में कुँवर-केदार-रघुवीर त्रयी के बाद अब तक एक दूरगामी मौलिक परिवर्तन माना जाता है। 1960 में टी.एस. एलिअट की कविताओं का अनुवाद ‘मरु-प्रदेश और अन्य कविताएँ’। क्रिस्टियन कॉलेज इन्दौर में पढ़ते हुए (1961-63) दैनिक ‘इन्दौर समाचार’ तथा फ़िल्म-साप्ताहिक ‘सिनेमा एक्सप्रेस’ में पत्रकारिता। अंग्रेज़ी में मेरिट में एम.ए. के बाद 1963-75 के बीच मध्य प्रदेश और दिल्ली में स्नातकोत्तर और ऑनर्स कक्षाएँ पढ़ाईं। अशोक वाजपेयी द्वारा ‘पहचान’ सीरीज़ (1970) की शुरुआत ‘विष्णु खरे की बीस कविताएँ’ से। 1978 में पहला संग्रह ‘ख़ुद अपनी आँख से’ आया जिसे रघुवीर सहाय ने ‘अद्वितीय’ कहा। 1975-84 के बीच केन्द्रीय साहित्य अकादेमी में प्रकाशन, अकादेमी पुरस्कार तथा साहित्यिक गतिविधियों के प्रभारी उप-सचिव, फिर 1994 तक तत्कालीन शीर्षस्थ दैनिक ‘नवभारत टाइम्स’ के लखनऊ-जयपुर संस्करणों के सम्पादक तथा मुख्य दिल्ली-संस्करण के विचार प्रमुख-सम्पादक। सैकड़ों सम्पादकीय और लेख। अंग्रेज़ी में भी प्रचुर लेखन। अकादेमी तथा ‘नवभारत टाइम्स’ विचारधारागत मतभेदों के कारण छोड़े—तब से ‘स्वतंत्र लेखन।’ चालीस से भी अधिक प्रकाशन जिनमें संकलन ‘पिछला बाक़ी’, ‘सबकी आवाज़ के पर्दे में’, ‘काल और अवधि के दरमियान’, ‘लालटेन जलाना’, ‘कवि ने कहा’, ‘पाठान्तर’, ‘प्रतिनिधि कविताएँ’ और ‘और अन्य कविताएँ’ शामिल हैं। आलोचना, पत्रकारिता, सिने-लेखन, तथा अंग्रे़ज़ी, जर्मन, मराठी में मुकम्मल अनुवाद, देशी-विदेशी भाषाओं से कविता, गल्प तथा गद्य के अनुवाद, राजेन्द्र माथुर संचयन-सम्पादन। पाब्लो नेरुदा, शमशेर बहादुर सिंह, सुदीप बनर्जी पर सम्पादित विशेषांक, विश्व-कवि गोएठे का कालजयी काव्य-नाटक ‘फ़ाउस्ट’, ‘फ़िनी’, महाकाव्य ‘कलेवाला’, एस्टोनियाई महाकाव्य ‘कलेवीपोएग’, डच उपन्यासकार-द्वय  सेस नोटेबोम तथ हरी मूलिश की कृतियाँ अनूदित। निजी रचनाओं के अनुवाद कई राष्ट्रीय और विदेशी भाषाओं में। शीर्ष फ़िल्म-समीक्षक की हैसियत से कान, ला रोशेल तथा रोत्तर्दम के प्रतिष्ठित सिने-समारोहों में आमंत्रित। चालीस से अधिक साहित्यिक-शैक्षणिक विदेश-यात्राएँ। 1986 में पत्रकर की हैसियत से प्रधानमंत्री राजीव गांधी के शिष्टमंडल में राष्ट्र-संघ, अमेरिका की यात्रा। फ़िनलैंड, एस्तोनिया, हंगरी तथा पोलैंड के राष्ट्रीय सम्मानों सहित अनेक स्वदेशी-विदेशी पुरस्कार। हिन्दी अकादमी, दिल्ली के उपाध्यक्ष भी रहे।

निधन : 19 सितम्बर, 2018

Read More
Books by this Author

Back to Top