Janch Partal

Author: Sanjay Sahay
You Save 15%
Out of stock
Only %1 left
SKU
Janch Partal

महान रूसी लेखक नि. व्. गोपाल की कालजयी कृति 'दी गवर्नमेंट इंस्पेक्टर' पर मूलतः आधारित संजय सहाय का हिंदी नाटक जांच-पड़ताल उस व्यथा और तंत्र के मानव-द्रोही भ्रष्ट चरित्र को परत-दर-परत खोलता है, जिसके बीच हम रहने और जीने के लिए लगभग अभिशप्त हैं ! यथार्थ के विचलित कर देनेवाले उत्ताप और तीखे दंश के सहारे यह नाटक कहीं-न-कहीं हमें भी अपनी ही नजरों के आगे परख व् पहचान के लिए खड़ा करता है ! एक बेमुरौवत कठघरे में-जहाँ से जीवन-सन्दर्भों की न केवल एक नई कारगर पहचान व् प्रतीति होती है; बल्कि अर्थपूर्ण बदलाव की शुरुआत भी होती है !

भाषा, रूप, चरित्र, अंतर्वस्तु और अर्थध्वनियों के स्तर पर दिक् और काल के अपार आयामों में गूंजती हुई गोगोल की सशक्त कृति के भीतर से सर्जनात्मक अंतर्यात्रा करते हुए 'जांच-पड़ताल' के लेखक ने समसामयिक भारतीय संदर्भो में अपरोक्ष अभिप्रायों से लैस एक नई रंग-आकृति रचने-ढालने की कोशिश की है ! अनुकृति या अंतरण से भिन्न यह नाट्य-रचना देश, समाज, भाषा और युग के भिन्न संदर्भो में मूल कृति का ही पुनराविष्कार है, जिसमे उनकी अशेष रचनात्मक संभावनाओं का संदोहन है ! हम इसे गोगोल की आधारभूत कृति का हिंदी तदभव कह सकते हैं !

- भृगुनंदन त्रिपाठी

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 1996
Edition Year 2022, Ed. 5th
Pages 95p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Radhakrishna Prakashan
Dimensions 22.5 X 14.5 X 1
Write Your Own Review
You're reviewing:Janch Partal
Your Rating
Sanjay Sahay

Author: Sanjay Sahay

संजय सहाय

जन्म : 21 अक्टूबर, 1958

शिक्षा : वाणिज्य स्नातक

लम्बी कहानियां 'शेषांत' एवं 'मध्यांतर' व्यापक स्तर पर चर्चित !

'शेषांत'पर रजत कमल से पुरस्कृत फिल्म 'पतंग' का निर्माण !

अनेक पत्र-पत्रिकाओं में कहानियां व् लेख प्रकाशित !

सम्प्रति : वर्तमान में आप 'हंस' मासिक पत्रिका के संपादक हैं !

 

Read More
Books by this Author
Back to Top