Soorsagar Satik : Vols. 1-2

Collected Works - Rachnawali
Author: Hardev Bahari
Translator: Rajendra Kumar
Editor: Rajendra Kumar
You Save 20%
Out of stock
Only %1 left
SKU
Soorsagar Satik : Vols. 1-2

सूरसागर का प्रस्तुत संस्करण दो भागों में प्रकाशित हो रहा है। प्रत्येक भाग में 1000 से कुछ अधिक पद होंगे। पदों की व्याख्या करना इसका उद्देश्य नहीं है। यह सम्भव है कि किन्हीं अंशों के एक से अधिक अर्थ निकलते हों, किन्तु स्थानाभाव के कारण अनेक अर्थ दे पाना सम्भव नहीं था। पदों में जो कठिन शब्द आए हैं, उन्हें अंग्रेज़ी अंक देकर संकेतित कर दिया गया है। इससे पाठकों को स्वतंत्र रूप से अर्थ चिन्‍तन की सुविधा रहेगी।

भूमिका में ‘सूरसागर’ के संकलनों और संस्करणों पर विचार करने के पश्चात् ‘सूरसागर’ के दर्शन, भक्तिपक्ष, भावप्रसार, अभिव्यंजना-कौशल, पद-शैली, भाषा आदि विषयों का विवेचन किया गया है जिससे ‘सूरसागर’ की आत्मा को समझने में सहायता मिलेगी। इस प्रकार ‘सूरसागर’ के प्रस्तुत संस्करण को यथासम्भव पूर्ण और उपयोगी बनाने की चेष्टा की गई है।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2021
Edition Year 2021, Ed. 1st
Pages 1027p
Translator Rajendra Kumar
Editor Rajendra Kumar
Publisher Lokbharti Prakashan
Dimensions 24.5 X 16 X 6
Write Your Own Review
You're reviewing:Soorsagar Satik : Vols. 1-2
Your Rating

Editorial Review

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum is that it has a more-or-less normal distribution of letters, as opposed to using 'Content here

Hardev Bahari

Author: Hardev Bahari

Dr. Hardev Bahri
Birth : 1 January, 1907
Place : Talagang (Distt. Attock),
now in Pakistan.
Education : B.A. Honours (English), M.A. (History), Hindi Prabhakar, M.O.L. (Sanskrit), Shastri, Ph.D. (Phonetics), D. Litt. (Hindi Semantics).
Teaching : Oriental College Lahore, D.A.V. College Rawalpindi, Aitchison College Lahore, Allahabad University, Kurukshetra University.
Honours : Honoured by Punjab Government, Bihar Government and the Govt. of India, Sahitya Vachaspati from Hindi Sahitya Sammelan.
Travels : Widely travelled in India and abroad.
Books : About 50 books including 22 dictionaries
Residence : 10, Darbhanga Colony, Allahabad-211002
Death : 31 March, 2000

Read More
Books by this Author

Back to Top