Jansanchar : Siddhant Aur Anuprayog

Out of stock
Only %1 left
SKU
Jansanchar : Siddhant Aur Anuprayog
More Information
Language Hindi
Format Paper Back
Publication Year 2008
Edition Year 2011, Ed. 2nd
Pages 152p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Radhakrishna Prakashan
Dimensions 22 X 14 X 1
Write Your Own Review
You're reviewing:Jansanchar : Siddhant Aur Anuprayog
Your Rating
Vishnu Rajgariya

Author: Vishnu Rajgariya

विष्णु राजगढ़िया

पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नातकोत्तर (स्वर्णपदक) तथा नेट (यूजीसी), रघुवीर सहाय की पत्रकारिता पर पीएच.डी.।

‘समकालीन जनमत’ (पटना) से जुड़कर पत्रकारिता के बाद ‘प्रभात ख़बर’ (धनबाद) में स्थानीय सम्पादक तथा प्रभात ख़बर इंस्टिट्यूट (राँची) में निदेशक का दायित्व सँभाला। ‘नई दुनिया’ के झारखंड ब्यूरो प्रमुख, पंचायत रिसोर्स सेंटर के राज्य समन्वयक तथा कौशल विकास मिशन में संचार प्रमुख पद पर कार्य का अनुभव। सूचना का अधिकार, मनरेगा, भोजन का अधिकार तथा उपभोक्ता आन्दोलन से गहरा जुड़ाव।

सम्प्रति : निदेशक, झारखंड फ़ाउंडेशन।

Read More
Books by this Author
New Releases
Back to Top