Vinayak

Awarded Books,Sahitya Academy Awards,Fiction : Novel
As low as ₹636.00 Regular Price ₹795.00
You Save 20%
In stock
Only %1 left
SKU
Vinayak
- +

...जो भी हो, इसका मतलब यही हुआ कि कुछ देना-पावना बचा था तुम्हारा मेरी तरफ़, जिसे तुम्हें मुझसे वसूल करना ही था।

...दूरबीन लगाकर देखा, तुम ख़ासे फल-फूल रहे हो। सेवानिवृत्ति की सरहद पर हो, फिर भी एक और लम्बी छलाँग लगाने को तैयार बैठे हो। ...इस सबके बीच तुम्हें घर की याद जैसी पिछड़ी और बासी-बूसी चिन्ता क्यों सताने लगी—मेरी समझ से बाहर है। देखता हूँ, तुम्हारे भीतर का वह कौतुकी-खिलंदड़ा बीनू अभी भी ज़िन्दा है। अभी भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा।

...उफ़! ऐसी भरी-पूरी और फलती-फूलती गिरस्ती के बीचोबीच यह कैसा बवंडर बो दिया तुमने! अजीब भँवर में डाल दिया है तुमने मुझे विनायक! तुम मेरे क़ाबू से बाहर हुए जा रहे हो। मैं क्या करूँ तुम्हारा अब? मेरी स्मृति भी मेरा साथ नहीं दे रही। ओह, अब याद आया। स्मृति नहीं, ‘प्रतिस्मृति’। जानते हो यह क्या होती है?

...पर, विनायक! अब यह मेरी ज़िम्मेदारी है, तुम्हारी नहीं। तुम्हें मैं जहाँ तक देख-सुन सकता था, दिखा-सुना चुका। जितनी दूर तक तुम्हारा साथ दे सकता था, दे चुका। अब तुम अपनी राह चलने को स्वतंत्र हो, और मैं अपनी।

यह एक ऐसा उपन्यास है जिसे इस लेखक के ही सुप्रसिद्ध और पहले-पहले उपन्यास ‘गोबरगणेश’ के नायक की उत्तरकथा की तरह भी पढ़ा जा सकता है और अपने-आप में मुकम्मल स्वतंत्र कृति की तरह भी। हाँ, जैसे उस विनायक का, वैसे ही इस विनायक का भी जिया-भोगा सब कुछ संवेदनशील पाठकों को ख़ुद अपनी जीवनानुभूति के क़रीब लगेगा : क्योंकि, यह किसी सिद्धिविनायक की नहीं, हमारे-आपके जैसे ही हर असिद्ध की व्यथा-कथा है, जिसमें अन्तर्द्वन्द्व और त्रास ही नहीं, उमंग और उल्लास भी कुछ कम जगह नहीं घेरते। चाहे चरितनायक हो, चाहे लच्छू-चन्दू-त्रिभुवन और हरीशनारायण सरीखे उसके नए-पुराने संगी-साथी हों, चाहे स्त्री-पुरुष सम्बन्धों की अक्षय ऊष्मा और दुर्निवार्य उलझनों को साकार करनेवाले चरित्र—मालती, मार्गरेट और शकुन्तला उर्फ मिसेज़ दुबे हों—सभी के इस आख्यान में घटित होने की लय हमारे सामूहिक और व्यक्तिगत जीने की लय से अभिन्न है। लय, जो जितनी जीने के ‘सेंसेशन’ की है, उतनी ही सोचने-महसूसने और उस सोचने-महसूसने को कहने की ज़िन्दा हरकतों की भी।

अन्तर्बाह्य जीवन की सनसनी से भरपूर यह उपन्यास अपने ही ढंग से, अपने ही सुर-ताल में जीवन के अर्थ की तलाश में भी पड़ता है : अपने ही जिये-भोगे हुए का भरपूर दबाव उसे उस ओर अनिवार्यतः ठेलता है। जीवन क्या किसी का भी, महज़ सीधी लकीर नहीं, एक वृत्त, बल्कि वर्तुल है जो ‘अन्त’ को ‘आरम्भ’ से मिला के ही पूरा होता है? यह भी महज़ संयोग नहीं, कि उपन्यास का आरम्भ ‘माई डियर बीनू’ को लिखी गई एक चिट्ठी और एक ख़ुशबू से होता है और उपसंहार स्वयं इस चरितनायक को उसके रचयिता के सीधे सम्बोधन और ‘प्रतिस्मृति’ से।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2011
Edition Year 2022,Ed. 5th
Pages 263p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Dimensions 22 X 14 X 2
Write Your Own Review
You're reviewing:Vinayak
Your Rating

Editorial Review

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum is that it has a more-or-less normal distribution of letters, as opposed to using 'Content here

Rameshchandra Shah

Author: Rameshchandra Shah

रमेशचन्द्र शाह

रमेशचन्द्र शाह का जन्म सन् 1937 में वैशाखी त्रयोदशी को अल्मोड़ा, उत्तर प्रदेश में हुआ। प्रयाग विश्वविद्यालय से उच्‍च शिक्षा पाई। हमीदिया कॉलेज, भोपाल के अंग्रेज़ी विभाग में सेवाएँ दीं। भोपाल में 'निराला सृजनपीठ' के निदेशक रहे।
इनकी प्रमुख कृतियाँ हैं–'गोबरगणेश', 'क़िस्सा ग़ुलाम' (आठ भारतीय भाषाओं में अनूदित), 'पूर्वापर', 'आख़िरी दिन', 'पुनर्वास', 'आप कहीं नहीं रहते विभूति बाबू', 'असबाब-ए-वीरानी' (उपन्यास); 'जंगल में आग', 'मुहल्ले का रावण', 'मानपत्र', 'थिएटर', 'प्रतिनिधि कहानियाँ' (कहानी-संग्रह); 'कछुए की पीठ पर', 'हरिश्चन्द्र आओ', 'नदी भागती आई', 'प्यारे मुचकुन्द को', 'चाक पर समय' तथा 'देखते हैं शब्द भी अपना समय' (कविता-संग्रह); 'मारा जाई ख़ुसरो' (नाटक); 'शैतान के बहाने', 'रचना के बदले', 'पढ़ते-पढ़ते', 'सबद निरन्तर', 'आड़ू का पेड़', 'स्वधर्म और कालगति', 'स्वाधीन इस देश में' (निबन्ध-संग्रह); 'छायावाद की प्रासंगिकता', 'समानान्तर', 'वागर्थ', 'भूलने के विरुद्ध', 'अज्ञेय : वागर्थ का वैभव', 'अज्ञेय का कवि-कर्म', 'आलोचना का पक्ष', 'समय-संवादी' (समालोचना); 'अज्ञेय : काव्य-स्तबक', 'जड़ की बात' (जैनेन्द्र के निबन्ध), 'प्रसाद रचना-संचयन' (सम्पादन); 'अकेला मेला', 'इस खिड़की से' (डायरी); 'बहुवचन' में दो यात्रा-वृत्तान्त संकलित तथा 'एक लम्बी छाँह' (यात्रा-वृत्तान्त); 'मटियाबुर्ज' ('राशोमन' का अनुवाद), 'दस स्पोक भर्तृहरि' (भर्तृहरिशतक का अंग्रेज़ी पद्यानुवाद) एवं कविताओं की चार पुस्तिकाएँ 'तनाव' पुस्तकमाला के अन्तर्गत प्रकाशित (अनुवाद); कई कविता एवं नाट्य-पुस्तकें (बाल-साहित्य)।
अंग्रेज़ी में : 'येट्स एंड एलियट : पर्सपैक्टिव्ज़ ऑन इंडिया', 'जयशंकर प्रसाद' तथा टेमेनोए अकादमी, लन्दन द्वारा चार व्याख्यानों की पुस्तिका प्रकाशित।
सम्मान : 'शिखर-सम्मान' (मध्य प्रदेश शासन, संस्कृति विभाग), 'साहित्य अकादेमी पुरस्कार', 'व्यास सम्मान', 'पद्मश्री', 'भवानीप्रसाद मिश्र पुरस्कार', 'महावीर प्रसाद द्विवेदी पुरस्कार', 'महापंडित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार' तथा भारतीय भाषा परिषद्, कोलकाता  द्वारा सम्मानित।
सम्पर्क : एम-4, निराला नगर, भदभदा रोड, भोपाल (म.प्र.)।
ई-मेल : reshahaakhar@gmail.com

 

Read More
Books by this Author

Back to Top