Puddan Katha : Corona Kal Mein Ganv-Giranv

Author: Devesh
As low as ₹97.50 Regular Price ₹150.00
You Save 35%
In stock
Only %1 left
SKU
Puddan Katha : Corona Kal Mein Ganv-Giranv
- +

एक रहे पुद्दन। गाँव रहा नरहरपुर। वे चले ससुराल–नौशादपुर। ब्याह था साली का। दौर था कोरोना का। वायरस की थी उत्सवों और मेलजोल से यारी। फैलाने लगा अपना पंजा। लोगों ने जिसे लिया हल्के में, वही पड़ा भारी। और उनकी बिंदास जिंदगी पर डाल दिया डर और आशंकाओं का जाल। फिर क्या हुआ? क्या हो सकी पुद्दन की साली की शादी? कथा बीच नउनिया की कथा क्या है? क्या होता है उसकी जिंदगी में? जयनाथ का आइसोलेशन गाँव में कौतूहल क्यों है? मखंचू शहर से लौटकर गाँव में क्या पाता है?

किरदारों की ठेलमठेल भीड़ नहीं है। जो हैं उनका असर गहरा होता है कथा पढ़ते हुए। अपनी-अपनी अच्छाई और बुराई के साथ जिंदादिल लोग हैं। धोखे और विश्वास, प्रपंच और लगाव से भरे हुए। सारी मुसीबतों के बीच वे रोते-रोते हँसी-ठट्ठा भी कर लेते हैं। गीत भी गा लेते हैं।

पुद्दन कथा गाँव-गिराँव की कोरोनाकालीन ऐसी कथात्मक रपट है जिसे पढ़ते हुए आँखें भर आती हैं। गुदगुदी उठती है। मुस्कान चुहल करती है।

एक प्राणवान देशज कथा!

More Information
Language Hindi
Format Paper Back
Publication Year 2022
Edition Year 2022, Ed. 1st
Pages 126p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Funda (An imprint of Radhakrishna Prakashan)
Dimensions 20 X 13 X 1
Write Your Own Review
You're reviewing:Puddan Katha : Corona Kal Mein Ganv-Giranv
Your Rating
Devesh

Author: Devesh

देवेश

सोशल मीडिया पर #मेट्रोनामा के लिए चर्चित देवेश का जन्म उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के इब्राहिमपुर गाँव में 8 अक्टूबर, 1985 को हुआ। प्रारम्भिक शिक्षा गाँव से हुई। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एम.ए. किया। मन से पुरबिया और भोजपुरिया हैं। सिनेमा, संगीत और क्रिकेट में इनकी गहरी दिलचस्पी है। पेशे से अध्यापक हैं।

Email : chaubeydeveshd@ gmail.com

Read More
Books by this Author
New Releases
Back to Top