Ek Cheez Kam

As low as ₹129.35 Regular Price ₹199.00
You Save 35%
In stock
Only %1 left
SKU
Ek Cheez Kam
- +

‘कहना है मुझे उस तरह/जिस तरह कहा नहीं गया अब तक’ इस साधारण से वाक्य से नहीं लगता था कि कविता का हिस्सा बनकर यह कथन बहुआयामी हो जाएगा। नीलेश की कविताओं में साधारण को असाधारण में ढालने की क्षमता है। क्या कभी सोचा जा सकता है कि समाज में बूढ़े हो चुके पिता परिवार से इस तरह अलग-थलग होते जाते हैं, जैसे अंगुली से नाखून अलग किए जाते हैं—‘नाखून की तरह/पिता भी तो झर रहे हैं/अब जीवन से’, इस वाक्योक्ति में पैवस्त यातना दहला देने वाली है।

नीलेश के यहाँ वाक्यांश मुहावरों में ढलते नज़र आते हैं। ‘जिन आँखों में काजल लगाया मैंने (कैसे) देख सकूँ उसमें दुख को’ कहते हुए कवि को लगता है—‘चट्टानों के बीच से/कोंपल की तरह फूटता है/दुख’। यहाँ मुहावरा उलट गया है। चट्टानों में कोंपल का फूटना अदम्य जिजीविषा का द्योतक है पर यहाँ हमारे सामाजिक यथार्थ की क्रूर चट्टानों से तो केवल दुख ही उपजता है। बदलते वक्त के साथ सामाजिक यथार्थ कितना उलट गया है, कवि इस स्थिति को ‘नागरिकता की मृत्यु’ की तरह देखने को विवश है।

ट्रैफिक के लिए सड़क किनारे के बोर्ड की चेतावनी को इस तरह पढ़ा जाना कि ‘सावधान! आगे अंधा मोड़ है/कहती हैं सड़कें/हमारे जीवन की कहानी’। सिर्फ कविता में ही सम्भव हो सकता है जीवन के इस कटु यथार्थ को एक साधारण-सी बात में इस तरह गुम्फित करना और नीलेश इसे बहुत सलीके से करती हैं। इसमें राजनीतिक हालात का दर्शन भी किया जा सकता है। ‘भला मानुष’ पद कभी निष्कपट, सच्चे और किसी कदर भोले-भाले व्यक्ति के लिए प्रयोग में आने लगा था लेकिन नीलेश उसी के अभिधार्थ में कहती हैं—‘जब मानुष भला मानुष हो जाएगा/तो बन्दर भी भले बन्दर हो जाएँगे’। पाठक के लिए यहाँ भी राजनीतिक अर्थ खोजने की गुंजाइश बनती है।

अपने आसपास उपस्थित परिवेश के आमफहम बिम्बों में जीवन के शाश्वत प्रश्नों की तरफ संकेत करना नीलेश की कविता की भी विशेषता रही है और गद्य की भी। उनका यह नया कविता-संग्रह निश्चय ही उनके कवि-मानस के अन्य विस्तारों से हमारा परिचय कराएगा।

More Information
Language Hindi
Format Paper Back
Publication Year 2023
Edition Year 2023, Ed. 1st
Pages 120p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Dimensions 22 X 14 X 1
Write Your Own Review
You're reviewing:Ek Cheez Kam
Your Rating
Neelesh Raghuwanshi

Author: Neelesh Raghuwanshi

नीलेश रघुवंशी 

नीलेश रघुवंशी का जन्म 4 अगस्त, 1969 को मध्य प्रदेश के गंज बासौदा क़स्बे में हुआ। उनका पहला उपन्यास ‘एक क़स्बे के नोट्स’ 2012 में प्रकाशित हुआ था, जो हिन्दी के चर्चित उपन्यासों में से एक है। 2019 में ‘द गर्ल विद क्वेशचनिंग आईज़’ नाम से यह अंग्रेज़ी में भी प्रकाशित हुआ।

नीलेश का नाम हिन्दी की बहुचर्चित कवियों में शुमार होता है। उनके प्रकाशित संग्रह हैं—‘घर निकासी’, ‘पानी का स्वाद’, ‘अंतिम पंक्ति में’, ‘कवि ने कहा’ (चुनी हुई कविताएँ, 2016), ‘खिड़की खुलने के बाद’। कई देशी-विदेशी भाषाओं में उनकी कविताओं का अनुवाद हो चुका है। कविता और उपन्यास के अलावा उन्होंने बच्चों के लिए नाटक और कई टेलीफ़िल्मों के लिए पटकथा-लेखन भी किया है।

उन्हें ‘भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार’, ‘आर्य स्मृति साहित्य सम्मान’, ‘दुष्यंत कुमार स्मृति सम्मान’, ‘केदार सम्मान’, ‘शीला स्मृति पुरस्कार’, ‘भारतीय भाषा परिषद’ कोलकाता का युवा लेखन पुरस्कार, ‘स्पंदन कृति पुरस्कार’, ‘प्रेमचंद स्मृति सम्मान’, ‘शैलप्रिया स्मृति सम्मान’ आदि पुरस्कारों से सम्मानि‍त किया जा चुका है।

फ़िलहाल दूरदर्शन केन्द्र, भोपाल में कार्यरत हैं।

सम्पर्क : neeleshraghuwanshi67@gmail.com

Read More
Books by this Author
New Releases
Back to Top