Krantikari Shaheed Chandrashekhar Azad Ki Jeevan-Katha

Awarded Books,History,Biography,Revolutionary Literature
As low as ₹209.00 Regular Price ₹299.00
You Save 30%
In stock
Only %1 left
SKU
Krantikari Shaheed Chandrashekhar Azad Ki Jeevan-Katha
- +

असहयोग आन्दोलन’ गांधीजी का बिल्कुल अनूठा और नया प्रयोग था। असहयोग की लहर में पूरा देश बह गया था। एक 14 वर्षीय छात्र ने भी इसमें अपनी आहुति दी। चन्द्रशेखर नाम के इस किशोर ने अदालत में अपना नाम ‘आज़ाद’ बताया। तब से वह आज़ाद ही रहा। एक किशोर असहयोगी से भारतीय क्रान्तिकारी दल के अजेय सेनापति बनने तक की आज़ाद की महागाथा अत्यन्त रोमांचकारी है। वे बहुत ग़रीब और रूढ़िवादी ब्राह्मण परिवार में जन्मे मगर विद्रोही व्यक्तित्व के कारण उससे जल्दी ही मुक्ति पा ली। शुरुआती दौर में वे असहयोगी बने, लेकिन तेज़ी से छलाँग लगाकर क्रान्तिकारी पार्टी की सदस्यता ले ली और थोड़े ही समय बाद उसके ‘कमांडर-इन-चीफ’ नियुक्त हो गए। वे पुलिस की आँखों में लगातार धूल झोंककर बड़े करतब करते रहे। आज़ाद जीते-जी किंवदन्ती बन गए थे। जनता में वे बेहद लोकप्रिय थे। उन पर अनेक लोकगीत रचे और गाए गए। मगर आज़ाद की स्मृति-रक्षा के लिए सरकार की ओर से कोई प्रयास नहीं किया गया। उनका जन्मस्थान भावरा (मध्य प्रदेश) तथा पैतृक घर बदरका (उन्नाव) आज भी उनकी यादों को सँजोए ख़ामोश हैं। उनकी माताजी श्रीमती जगरानी देवी ने स्वतंत्र भारत में अपने अन्तिम दिन अत्यन्त दयनीय स्थितियों में गुज़ारे। हम उन्हें एक राष्ट्रीय शहीद की माँ का दर्जा और सम्मान नहीं दे पाए। आज आज़ाद का कोई क्रान्तिकारी साथी जीवित नहीं है। स्वतंत्र भारत में उनके सारे साथियों की एक-एक कर मौत होती रही और किसी ने नहीं जाना। वे सब गुमनाम चले गए जिनके न रहने पर किसी ने आँसू नहीं बहाए, न कोई मातमी धुन बजी। किसी को पता ही न लगा कि ज़मीं उन आस्माओं को कब कहाँ निगल गई...। यह पुस्तक आज़ाद की संस्मृतियों से रची गई है जो न केवल उनकी कहानी से हमें रू-ब-रू कराती है, बल्कि उनके दौर की राजनीतिक हलचलों और अनेक गुमनाम क्रान्तिकारियों की याद दिलाती है, जिन्होंने आज़ादी के संग्राम में अपनी आहुति दी।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back, Paper Back
Publication Year 2007
Pages 331p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Dimensions 22 X 14 X 2
Write Your Own Review
You're reviewing:Krantikari Shaheed Chandrashekhar Azad Ki Jeevan-Katha
Your Rating

Editorial Review

It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum is that it has a more-or-less normal distribution of letters, as opposed to using 'Content here

Sudhir Vidyarthi

Author: Sudhir Vidyarthi

सुधीर विद्यार्थी
जन्म : 1 अक्तूबर, 1953 को पीलीभीत में। पैतृक घर शाहजहाँपुर का खुदागंज गाँव।

शिक्षा : एम.ए., इतिहास।

प्रकाशित कृतियाँ : ‘अशफ़ाक़उल्ला और उनका युग’, ‘शहीद रोशन सिंह’, ‘उत्सर्ग’, ‘हाशिया’, ‘मेरा राजहंस’, ‘शहीद अहमदउल्ला शाह’, ‘आमादेर विप्लवी’, ‘भगत सिंह की सुनें’ (पंजाबी में भी अनूदित), ‘शहीद भगतसिंह : इन्क़लाब का सफ़र’, ‘पहचान बीसलपुर’, ‘मेरे हिस्से का शहर’, ‘क्रान्तिकारी शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद की जीवन-कथा’, ‘अमर शहीद चन्द्रशेखर आज़ाद’ (सं.), ‘शहीद भगत सिंह: क्रान्ति का साक्ष्य’, ‘काला पानी का ऐतिहासिक दस्तावेज़’ (सं.), ‘कर्मवीर पं. सुन्दरलाल : कुछ संस्मरण’, ‘शहीदों के हमसफ़र’, ‘अपराजेय योद्धा कुँवर भगवान सिंह’, ‘गदर पार्टी भगत सिंह तक’ (सं.), ‘जब ज्योति जगी’ (सं.), ‘बुन्देलखंड और आज़ाद’, ‘क्रान्तिकारी बटुकेश्वर दत्त’, ‘आज का भारत और भगत सिंह’, ‘क्रान्ति की इबारतें’, ‘जखीरे में शाहदत’ (सं.) आदि।

1985 से साहित्य-विचार की पत्रिका ‘संदर्श’ का सम्पादन और प्रकाशन। आत्मकथात्मक संस्मरण 'मेरा राजहंस’ की एनएसडी सहित देश-भर में 23 नाट्य-प्रस्तुतियाँ। 'अशफ़ाक़उल्ला और उनका युग’ पुस्तक पर आधारित 'स्वराज्य’ का धारावाहिक डीडी-1 पर दो बार प्रदर्शन।

उत्तर प्रदेश के कर्मचारी-मज़दूर आन्दोलन में 20 वर्ष तक सक्रिय भागीदारी व प्रदेशीय नेतृत्व। इसी के तहत दो बार जेल-यात्रा, कई मुक़दमे व यातनाएँ।

सम्प्रति : स्वतंत्र लेखन एवं संस्कृति-कर्म।

ईमेल : vidyarthisandarsh@gmail.com

Read More
Books by this Author

Back to Top