छात्रों को हिन्दी भाषा की आधारभूत जानकारी देने के साथ-साथ हिन्दी को बातचीत की भाषा के रूप में भी सहज बनाना इस पुस्तक का मुख्य उद्देश्य है, इसलिए शब्द-भंडार के स्तर पर भी सावधानियाँ बरती गई हैं। पुस्तक के अध्यायों को सरल रखने का हर सम्भव प्रयास किया गया है।    

पुस्तक के दस अध्यायों का रोमन में लिप्यन्तरण किया गया है। लिप्यन्तरण में (.) को (n) के रूप में दर्शाया गया है। जैसे—‘लोगों’ के लिए जहाँ ‘logo’ लिखा गया है वहाँ (.) के उच्चारण को समझाने के लिए (n) को कोष्ठक में रखा गया है। 

किताब का शीर्षक ‘हिन्दी पथ’ अंग्रेज़ी और हिन्दी की समानताओं को सामने लाता है। (वर्तनी और अर्थ के साथ)।

आशा है, हिन्दी की तरफ़ जानेवाला यह पथ विदेशी छात्रों के लिए सरल और रुचिकर होगा।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2012
Edition Year 2022, Ed. 2nd
Pages 368p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Lokbharti Prakashan
Dimensions 22 X 14 X 2
Write Your Own Review
You're reviewing:Hindi Path
Your Rating

Author: Sushila Gupta

सुशीला गुप्ता

जन्म : बलिया, उत्तर प्रदेश।

शिक्षा : एम.ए., एल.एल.बी., पीएच.डी., रूसी भाषा में डिप्लोमा।

प्रमुख कृतियाँ : ‘आधुनिक हिन्दी काव्य में प्रवृत्तिमूलक दार्शनिकता’, ‘हिन्दी रूप-रचना’, ‘बोलचाल की हिन्दी’, ‘ध्वनि-प्रतिध्वनि’, ‘सार्थकता की तलाश’, ‘लेखन की मानवीय अर्थवत्ता’, ‘हिन्दुस्तानी प्रचार सभा के तीन कर्णधार’, ‘कुछ पठित-कुछ लिखित’, ‘पुस्‍तक संस्‍कृति पर गहराता संकट’, ‘कविता की दहलीज़ पर इंसानी दस्तक’ इसके अतिरिक्त विभिन्न पुस्तकों का सम्पादन।  

विशेष : सुशीला जी पर एक पुस्‍तक ‘डॉ. सुशीला गुप्‍ता : व्‍यक्तित्‍व और कृतित्‍व’ प्रकाशित, जिसका सम्‍पादन पद्मजा शर्मा ने किया है।

सम्मान : ‘सर्वश्रेष्ठ शिक्षक सम्मान’ (एस.एन.डी.टी. विश्वविद्यालय), ‘श्री कान्तिलाल जोशी हिन्दी सेवा सम्मान’, ‘हिन्दी सेवी सम्मान’ (मैसूर हिन्दी प्रचार परिषद और अखिल कर्नाटक हिन्दी साहित्य अकादमी, बंगलुरु), ‘भारती रत्न सम्मान’ (राष्ट्रीय राजभाषा पीठ, इलाहाबाद), ‘भारती गौरव सम्मान’ (भारती प्रसार परिषद, मुम्बई) आदि।

Read More
Books by this Author
Back to Top