Dus Baras Ka Bhanwar

Author: Ravindra Verma
As low as ₹590.75 Regular Price ₹695.00
You Save 15%
In stock
Only %1 left
SKU
Dus Baras Ka Bhanwar
- +

बाबरी मस्जिद विध्वंस (1992) और गुजरात नरसंहार (2002) के बीच फैले दस वर्ष हमारे समकालीन इतिहास का ऐसा समय रचते हैं, जिसकी प्रतिध्वनियाँ देर और दूर तक जाएँगी। इस दशक में केवल साम्प्रदायिकता ही परवान नहीं चढ़ी, बल्कि नव-उदारवाद ने भी हमारे समाज में जड़ें पकड़ीं—जैसे दोनों सगी बहनें हों। उपभोक्तावाद मूल्य बना। सामाजिक सरोकार तिरोहित होने लगे। यह उपन्यास इसी आरोह-अवरोह को एक परिवार की कहानी द्वारा पकड़ने की कोशिश है, जिसके केन्द्र में रतन का तथाकथित ‘शिज़ोफ्रिनिया’ है और उसका सामना करते बाँके बिहारी
हैं। रतन के भाइयों की संवेदनहीनता जाने-अनजाने एक चक्रव्यूह की रचना करती है, जिससे बाँके बिहारी अपने छोटे बेटे को निकालते हैं। रतन अपने उन्माद में अपनी प्रेमिका का बलात्कार करता है। पत्रकार बाँके बिहारी के लिए यह ‘गुजरात’ का रूपक बन जाता है। इन्हीं कथा-सूत्रों के इर्द-गिर्द लेखकीय चिन्ताएँ बिखरी हैं, जो समकालीनता का अतिक्रमण करती हुई मनुष्य की नियति की पड़ताल करती हैं। यह प्रकृतिवाद से परहेज़ करती हुई क़िस्सागोई है, जो नए यथार्थ के मुहावरे को रचने का प्रयास करती है। उपन्यास में समय और शिल्प का लचीलापन इसी मुहावरे की तलाश है।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2007
Edition Year 2023, Ed. 2nd
Pages 207p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Dimensions 22 X 14.5 X 1.5
Write Your Own Review
You're reviewing:Dus Baras Ka Bhanwar
Your Rating
Ravindra Verma

Author: Ravindra Verma

रवीन्द्र वर्मा

जन्म : 1 दिसम्बर, 1936 को झाँसी (उत्तर प्रदेश) में।

शिक्षा : प्रारम्भिक शिक्षा झाँसी में। 1959 में प्रयाग विश्वविद्यालय से एम.ए. (इतिहास)।

सन् 1965 से कहानियों का पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशनारम्भ। अपनी विशिष्ट छोटी कहानियों के रूप में एक नई कथा-विधा के प्रणेता माने जाते हैं। कुछ आलोचनात्मक लेखन भी।

प्रकाशित कृतियाँ : ‘कोई अकेला नहीं है’, ‘पचास बरस का बेकार आदमी’ (कहानी-संग्रह); ‘क़िस्सा तोता सिर्फ़ तोता’, ‘गाथा शेखचिल्ली’, ‘माँ और अश्वत्थामा’, ‘जवाहरनगर’, ‘निन्यानबे’, ‘पत्थर ऊपर पानी’, ‘मैं अपनी झाँसी नहीं दूँगा’, ‘दस बरस का भँवर’, ‘आख़िरी मंज़िल’ (उपन्यास)।

कुछ कहानियों का देशी-विदेशी भाषाओं में अनुवाद। ‘आख़िरी मंज़िल’ का पंजाबी में।

सम्प्रति : स्वतंत्र लेखन।

Read More
Books by this Author
Back to Top