Aadhunik Bharat Mein Jati

Author: M.N. Shrinivas
You Save 15%
Out of stock
Only %1 left
SKU
Aadhunik Bharat Mein Jati

अथक अध्ययन और शोध के परिणामस्वरूप एम.एन. श्रीनिवास के निबन्ध आकार ग्रहण करते हैं। भारतीय समाज की नब्ज़ पर उनकी पकड़ गहरी और मज़बूत है। उनके लेखन में इतिहास और बुद्धि का बोझिलपन नहीं है। प्रस्तुत पुस्तक में संगृहीत निबन्धों में समाजशास्त्र व नृतत्त्वशास्त्र विषयक समस्याओं के व्यावहारिक पक्षों पर रोशनी डाली गई है। लेखक समस्याओं की तह में जाना पसन्द करता है और उसके विश्लेषण का आधार भी यही है।

हर समाज की अपनी मौलिक संरचना होती है। जिस संरचना को उस समाज के लोग देखते हैं, वह वैसी नहीं होती जैसी समाजशास्त्री शोध और अनुमानों के आधार पर प्रस्तुत करते हैं। भारतीय समाजशास्त्रियों ने जाति- व्यवस्था के जटिल तथ्यों को ‘वर्ण’ की मर्यादाओं में समझने की भूल की और जिसके चलते सामाजिक संरचना का अध्ययन सतही हो गया। गत सौ-डेढ़ सौ वर्षों के दौरान जाति-व्यवस्था का असर कई नए-नए कार्यक्षेत्रों में विस्तृत हुआ है और उसकी ऐतिहासिक व मौजूदा तंत्र की नितान्त नए दृष्टिकोण से विश्लेषण करने की माँग एम.एन. श्रीनिवास करते हैं। हमारे यहाँ जाति-व्यवस्था की जड़ें इतनी गहरी हैं कि बिना इसके सापेक्ष परिकलन किए मूल समस्याओं की बात करना बेमानी है। एम.एन. श्रीनिवास का मानना है कि समाज-वैज्ञानिक विश्लेषण के लिए राजनीतिक स्तर के जातिवाद तथा सामाजिक एवं कर्मकांडी स्तर के जातिवाद में फ़र्क़ करना ज़रूरी है।

More Information
Language Hindi
Format Hard Back
Publication Year 2001
Edition Year 2020, Ed. 4th
Pages 180p
Translator Not Selected
Editor Not Selected
Publisher Rajkamal Prakashan
Write Your Own Review
You're reviewing:Aadhunik Bharat Mein Jati
Your Rating
M.N. Shrinivas

Author: M.N. Shrinivas

एम.एन. श्रीनिवास
एम.एन. श्रीनिवास इंस्टीट्यूट फ़ॉर सोशल एंड इकॉनॉमिक चेंज, बंगलोर की समाजशास्त्र इकाई के सीनियर फ़ेलो और प्रमुख थे। वे ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में (1948-51) भारतीय समाजशास्त्र के व्याख्याता, एम.एस. विश्वविद्यालय, बड़ौदा में (1952-59) और दिल्ली विश्वविद्यालय में (1952-72) समाजशास्त्र के प्रोफ़ेसर रहे।
1953-54 में वह मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के साइमन सीनियर रिसर्च फ़ेलो और 1956-57 में ब्रिटेन और अमेरिका में रॉक फ़ैलर फ़ेलो रहे। वे पहले भारतीय हैं जिन्हें रॉयल एन्थ्रॉपॉलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ़ ग्रेट ब्रिटेन एंड आयरलैंड की मानद फ़ेलोशिप मिली। इसके अलावा, 1963 में लेखक कुछ समय के लिए बर्कले, कैलिफ़ोर्निया में टैगोर लैक्चरर और डिपार्टमेंट ऑफ़ सोशल एन्थ्रॉपॉलॉजी एंड सोशियोलॉजी के साइमन विजि़टिंग प्रोफ़ेसर रहे।
प्रकाशन : ‘मैरिज एंड फ़ैमिली इन मैसूर’, ‘रिलिजन एंड सोसाइटी अमंग द कुर्ग्‍स ऑफ़ साउथ इंडिया’, ‘कास्ट्स इन मॉडर्न इंडिया एंड अदर एसेज’, ‘द रेमेम्बेरेड विलेज’, इंडियन सोसाइटी थ्रू पर्सनल राइटिंग्स’, ‘विलेज, कास्ट, जेन्डर एंड मेथॅड’, ‘सोशल चेंज इन मॉडर्न इंडिया’, ‘द डोमिनेंट कास्ट एंड अदर एसेज’ ‘डाइमेंशन्स ऑफ़ सोशल चेंज इन इंडिया’ आदि।
सम्मान : रॉयल एन्थ्रॉपॉलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ़ ग्रेट ब्रिटेन एंड आयरलैंड का ‘रिवर्स मेमोरियल मेडल’ (1955), भारतीय नृतत्त्वशास्त्र में योगदान के लिए ‘शरतचन्द्र रॉय मेमोरियल गोल्ड मेडल’ (1958) और ‘जी.एस. धुर्वे अवार्ड’ (1978)। शिकागो विश्वविद्यालय और मैसूर विश्वविद्यालय की मानद उपाधियाँ प्राप्‍त। भारत सरकार द्वारा 1977 में ‘पद्मभूषण’ से सम्‍मानित।
निधन : 30 नवम्बर, 1999

 

 

 

 

Read More
Books by this Author
Back to Top