Author
Puran Chandra Joshi

Puran Chandra Joshi

4 Books

पूरनचंद्र जोशी

जन्म : 9 मार्च, 1928; ग्राम—दिगोली, ज़िला—अल्मोड़ा (उत्तराखंड)।

प्रारम्भिक शिक्षा : मॉडल स्कूल और गवर्नमेंट इंटर कॉलेज, अल्मोड़ा; उच्च शिक्षा : बी.ए. ऑनर्स, एम.ए. और पीएच.डी., लखनऊ स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स एंड सोशियोलोजी, लखनऊ विश्वविद्यालय।
भारतीय समाजशास्त्र के उच्चकोटि के अध्यापन और चिन्तन और बांग्ला भाषा में साहित्य और समाजशास्त्र को जोड़ने की दिशा में सृजन के लिए जाने–माने डी.पी. साहब से प्रेरणा पाकर ‘साहित्य की सामाजिक भूमिका’ और ‘हिन्दी साहित्य में किसान’ विषयों पर विचारोत्तेजक लेखन। युवा काल से मार्क्स से प्रेरणा पाकर ‘सामाजिक क्रान्ति’ और ‘उत्पीड़ितों के समाजशास्त्र’ की दिशा में मौलिक लेखन।
भूमिसुधार, कृषि–विकास, ग्रामीण श्रमिक हितकारी नीतियों और संचार तथा सम्प्रेषण के विकास में भूमिका के प्रश्नों पर उच्चस्तरीय कमेटियों के चेयरमैन या सदस्य के रूप में कई वर्षों तक सक्रिय।
प्रमुख कृतियाँ : ‘यादों से रची यात्रा : विकल्‍प की तलाश’, ‘स्‍वप्‍न और यथार्थ : आज़ादी की आधी सदी’, ‘उत्‍तराखंड के आईने में हमारा समय’, ‘भारतीय ग्राम’, ‘परिवर्तन और विकास के सांस्कृतिक आयाम’, ‘आज़ादी की आधी सदी : स्वप्न और यथार्थ’, ‘अवधारणाओं का संकट’, ‘महात्मा गांधी की आर्थिक दृष्टि : जीवन्तता और प्रासंगिकता’, ‘संचार, संस्कृति और विकास’ (समाजशास्‍त्र); ‘इत्‍यादि जन’ (कविता-संग्रह); ‘मेरे साक्षात्कार’ (साक्षात्‍कार)। इसके अलावा अंग्रेज़ी में एक दर्जन से अधिक पुस्तकों का लेखन।

यात्राएँ : अमेरिका, रूस, चीन, थाइलैंड आदि कई देशों की यात्राएँ।

सम्मान : समाजशास्त्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए भारतीय समाजशास्त्र परिषद् द्वारा ‘लाइफ़ टाइम एचीवमेंट एवार्ड’ द्वारा सम्मानित। रवीन्द्र भारती विश्वविद्यालय, कलकत्ता द्वारा ‘डी.लिट्. आनरिस कौजर’ की उपाधि से सम्मानित। हिन्दी के प्रमुख संस्थानों द्वारा हिन्दी में अर्थ और समाजशास्त्र के मौलिक शोध और लेखन के लिए पुरस्कृत।
निधन : 9 नवम्बर, 2014

Back to Top