Author

Pierre Berge

0 Books

पियर बेरजे

पियर बेरजे (14 नवम्बर, 1930-8 सितम्बर, 2017) फ़्रांस के विख्यात उद्योगपति एवं कला-संरक्षक। उनकी माता एक प्रगतिशील अध्यापिका थीं और पिता टैक्स-ऑफ़िस में कर्मचारी। शुरुआती शिक्षा के बाद उन्होंने घर छोड़ दिया और पेरिस आ गए जहाँ उनकी मुलाक़ात ज्यां पॉल सार्त्र और अल्बेयर काम्यू जैसे लेखकों से हुई।

बेरजे को सामाजिक सोच के लिहाज़ से उदारवादी लेकिन अपने राजनीतिक झुकाव के लिहाज़ से पुरातनपंथी माना जाता है। 1988 में उन्होंने ‘ग्लोब’ नाम से एक फ़ैशन-पत्रिका शुरू की जिसने राष्ट्रपति-चुनावों में फ्रंसवा मीत्रों का समर्थन किया था। ओपेरा के लिए बेरजे के प्रेम को देखते हुए मीत्रों ने उन्हें ओपेरा बेस्टिले का अध्यक्ष बनाया। इस पद पर उन्होंने 1994 तक काम किया। वे उन्नीसवीं और बीसवीं सदी के संगीत के संग्रहालय मेडियाथेक मुजिकेल माह्लर के अध्यक्ष भी रहे। समलैंगिक-अधिकार आन्दोलन को भी उनका समर्थन प्राप्त था। उन्होंने एड्स-विरोधी संगठन एक्ट-अप पेरिस को सहायता दी। फ़्रांस की प्रमुख गे-पत्रिका 'टेटू' और यूरोप के दूसरे बड़े गे-टीवी चैनल 'पिंक टीवी' के स्वामित्व में हिस्सेदार रहे। उन्होंने कुछ संग्रहालयों की स्थापना में भी सहयोग और प्रोत्साहन दिया।

सन् 2010 में उन्होंने ‘लेटर्स अ’ ईव' शीर्षक पुस्तक को प्रकाशित कराया जिसका अंग्रेज़ी अनुवाद 2014 में ‘ईव सांलौरां : ए मोरोक्कन पैशन' शीर्षक से आया। इसी वर्ष ईव के जीवन पर आधारित एक फ़िल्म भी बनी जिसमें पियर बेरजे और ईव सांलौरां की फ्रांसीसी फ़ैशन-उद्योग के विकास में भूमिका और उनके अपने रिश्तों को रेखांकित किया गया।

उद्योगपति और कला-संरक्षक के रूप में उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित भी किया गया।

All Pierre Berge Books
Back to Top