Katha Shakuntala Ki/Chaturbhani

Play,Special Combos
500%
() Reviews

From ₹120.00 Regular Price ₹150.00

To ₹599.20 Regular Price ₹749.00

In stock

SKU
Katha Shakuntala Ki/Chaturbhani
Customize Katha Shakuntala Ki/Chaturbhani

* Required Fields

Your Customization
Katha Shakuntala Ki/Chaturbhani
Katha Shakuntala Ki/Chaturbhani

In stock

- +

₹120.00

Summary
    More Information
    Language Hindi
    Format Paper Back
    Pages 451
    Translator Not Selected
    Editor Not Selected
    Publisher Rajkamal Prakashan
    Write Your Own Review
    You're reviewing:Katha Shakuntala Ki/Chaturbhani
    Your Rating

    Editorial Review

    It is a long established fact that a reader will be distracted by the readable content of a page when looking at its layout. The point of using Lorem Ipsum is that it has a more-or-less normal distribution of letters, as opposed to using 'Content here

    Radhavallabh Tripathi

    Author: Radhavallabh Tripathi

    राधावल्लभ त्रिपाठी

    जन्म : 15 फरवरी, 1949; मध्य प्रदेश के राजगढ़ ज़िले में। शिक्षा : एम.ए., पीएच.डी., डी.लिट्.। सन् 1970 से विश्वविद्यालयों में अध्यापन। शिल्पाकार्न विश्वविद्यालय, बैंकॉक; कोलंबिया विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क में संस्कृत के अतिथि आचार्य। राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान में पाँच वर्ष कुलपति (2008-13)। शिमला स्थित भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान में फैलो। जर्मनी, इंग्लैंड, जापान, नेपाल, भूटान, आस्ट्रिया, हालैंड, बांग्लादेश, रूस, थाइलैंड आदि देशों की यात्राएँ। प्रकाशन : ‘आदिकवि वाल्मीकि’, ‘संस्कृत कविता की लोकधर्मी परम्परा’, ‘संस्कृत काव्यशास्त्र और काव्य-परम्परा’, ‘नाट्यशास्त्र विश्वकोश’, ‘बहस में स्त्री’, ‘नया साहित्य : नया साहित्यशास्त्र’, ‘भारतीय काव्यशास्त्र की आचार्य-परम्परा’ आदि समीक्षात्मक पुस्तकों सहित हिन्दी में दो उपन्यास और तीन कहानी-संग्रह व अनेक नाटक प्रकाशित; संस्कृत में तीन मौलिक उपन्यास, दो कहानी-संग्रह, तीन पूर्णाकार नाटक तथा एक एकांकी-संग्रह प्रकाशित। ‘सागरिका’, ‘नाट्यम्’ आदि पत्रिकाओं का सम्पादन। पुरस्कार : ‘साहित्य अकादेमी पुरस्कार’, ‘शंकर पुरस्कार’, कनाडा का ‘रामकृष्ण संस्कृति सम्मान’, यू.जी.सी. का ‘वेदव्यास सम्मान’, महाराष्ट्र शासन का ‘जीवनव्रती संस्कृत सम्मान’ आदि।

    Read More
    Books by this Author

    Back to Top