• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Komal Gandhar (Raza Pustak Mala)

Komal Gandhar (Raza Pustak Mala)

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 250

Special Price Rs. 225

10%

  • Pages: 225
  • Year: 2019, 1st Ed.
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 13: 9789388753234
  •  
    उस्ताद विलायत ख़ाँ अप्रतिम सितार वादक थे। उनके बजाने-गाने की कई कथाएँ भी किंवदन्तियों की तरह प्रचलित हैं। वह ओज, सरसता, सूक्ष्मतम ध्वनि तरंगों और माधुर्य के धनी थे। जिन्होंने उनको सुना है—आमने-सामने बैठकर—वे तो उनके 'बजाने की छवि' को भी याद करते हैं, सिर्फ़ उनके सुरों को ही नहीं। यहाँ हम लेखक और संगीतविद् शंकरलाल भट्टाचार्य द्वारा मूल रूप से बाङ्ला भाषा में उस्ताद विलायत ख़ाँ की आत्मकथा के तैयार किये गये वार्तालेख के साथ उन पर एकाग्र तीन आलेखों को सुपरिचित आलोचक और अनुवादक रामशंकर द्विवेदी के अनुवाद में प्रस्तुत कर रहे हैं। पहले दो आलेख, क्रमश: दो संगीत-पारखियों नीलाक्ष दत्त और आशीष चट्टोपाध्याय के हैं, तीसरा बाङ्ला के विख्यात कवि जय गोस्वामी का है। तीनों आलेख अपने-अपने ढंग से विलायत ख़ाँ के सितार के गुणों को तो उभारते ही हैं, उनके व्यक्तित्व की भी एक झलक प्रस्तुत करते हैं। नीलाक्ष दत्त के आलेख में तो स्वयं विलायत ख़ाँ के सितार की बनावट-बुनावट, और उसे बजाने की तकनीक की भी चर्चा है। इन आलेखों में उन कई सामान्य श्रोताओं की भी एक मर्मभरी उपस्थिति है, जो मानो उनके सितार के पीछे 'पागल' ही तो थे। सामान्य श्रोताओं से लेकर गुणी संगीत पारखियों, समीक्षकों, लेखकों-कवियों-कलाकारों, बुद्धिजीवियों तक में संगीत के प्रति यह जो अनुराग रहा है, वह इस आत्मकथा को पढ़कर भी जाना जा सकता है। कहना न होगा कि 'कोमल गांधार' पठनीय ही नहीं बल्कि संग्रहणीय पुस्तक भी है। ''उस्ताद विलायत ख़ाँ भारतीय शास्त्राीय संगीत की एक विभूति थे। उनकी दो सौ अट्ठाइस पृष्ठों में फैली आत्मकथा के साथ-साथ इस पुस्तक में परिशिष्ट के रूप में नीलाभ दत्त, आशीष भट्टाचार्य और प्रसिद्ध बाङ्ला कवि जय गोस्वामी द्वारा उन पर लिखे निबन्ध भी शामिल किये गये हैं। यह मूल्यवान उपक्रम प्रयत्नपूर्वक किया है संगीतविद् शंकरलाल भट्टाचार्य ने। हिन्दी में एक महान् संगीतकार से सम्बन्धित ऐसी दुर्लभ सामग्री को लाने की जि़म्मेदारी पूरी की है वरिष्ठ विद्वान्, रसिक और अनुवादक डॉ. रामशंकर द्विवेदी ने। आत्मकथा, निबन्ध, लेखन और अनुवाद सभी सृजन और संगीत के गहरे और निश्छल प्रेमवश किये गये हैं। रज़ा पुस्तक माला 'कोमल गांधार' को बहुत प्रसन्नता और कृतज्ञता के साथ प्रस्तुत कर रही है।" —अशोक वाजपेयी

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Vilayat Khan

    अनु. शंकरलाल भट्टाचार्य

    जन्म 15 अगस्त, 1947। इनके पिता विख्यात विधि विशेषज्ञ थे। उनका नाम था—बंकिमचन्द्र भट्टाचार्य। वे विदग्ध पण्डित और दानशील व्यक्ति थे। उनके घर का वातावरण, पुस्तकों, राजनीति और संगीत से सराबोर था। शंकरलाल का पालन-पोषण इसी वातावरण में हुआ था। इन्होंने अँग्रेज़ी साहित्य में एम.ए. विश्वविद्यालय में प्रथम श्रेणी में प्रथम रहकर किया था। शंकर लाल की कहानियों, उपन्यासों और प्रबन्ध-निबन्धों में कोलकाता शहर के व्यक्तियों की स्मृति-सुधा और संगीत का विस्तार है।

    उनके कहानी-संकलनों में मुख्य हैं—'ऐंगलो चाँद', 'गाँधी के आततायी' तथा 'कवि की मृत्यु'। 'प्रथम पुरुष', 'एई आमि एका अन्य', 'आघेन, हेलेन ओ सेई क्रन्याही' जैसे उपन्यास उन्होंने लिखे हैं। 'दार्शनिक की मृत्य', 'चिन्ता की सीमा', उनके समादृत प्रबन्ध संकलन हैं।

    इसके अलावा उन्होंने सत्यजित राय, रविशंकर, उदय शंकर तथा सुनील गंगोपाध्याय के साथ विलायत  ख़ाँ  पर काम किया है। रविशंकर की आत्मकथा 'राग अनुराग' के वे सहलेखक हैं। उन्होंने हेमन्त मुखोपाध्याय के ग्रन्थ 'आमार गानेर सुरलिपि' आत्म-स्मृति का भी सहलेखन किया है।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144