• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Gopan Aur Ayan-Khand-1 (Raza Pustak Mala)

Gopan Aur Ayan-Khand-1 (Raza Pustak Mala)

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 350

Special Price Rs. 315

10%

  • Pages: 299
  • Year: 2019, 1st Ed.
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 13: 9789388753173
  •  
    गुजराती आदि भारतीय भाषाएँ एक विस्तृत सेमिओटिक नेटवर्क अर्थात् संकेतन-अनुबन्ध-व्यवस्था का अन्य-समतुल्य हिस्सा है। मूल बात ये है कि विशेष को मिटाये बिना सामान्य अथवा साधारण की रचना करने की, और तुल्यमूल्य संकेतकों से बुनी हुई एक संकेतन-व्यवस्था रचने की जो भारतीय क्षमता है, उस का जतन होता रहे। राष्ट्रीय या अन्तरराष्ट्रीय राज्यसत्ता, उपभोक्तावाद को बढावा देने वाली, सम्मोहक वाग्मिता के छल पर टिकी हुई धनसत्ता एवं आत्ममुग्ध, असहिष्णु विविध विचारसरणियाँ/आइडियोलोजीज़ की तन्त्रात्मक सत्ता, आदि परिबलों से शासित होने से भारतीय क्षमता को बचाते हुए, उस का संवर्धन होता रहे। गुजराती में से मेरे लेखों के हिन्दी अनुवाद करने का काम सरल तो था नहीं। गुजराती साहित्य की अपनी निरीक्षण परम्परा तथा सृजनात्मक लेखन की धारा बड़ी लम्बी है और उसी में से मेरी साहित्य तत्त्व-मीमांसा एवं कृतिनिष्ठ तथा तुलनात्मक आलोचना की परिभाषा निपजी है। उसी में मेरी सोच प्रतिष्ठित (एम्बेडेड) है। भारतीय साहित्य के गुजराती विवर्तों को ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में जाने बिना मेरे लेखन का सही अनुवाद करना सम्भव नहीं है, मैं जानता हूँ। इसीलिये, इन लेखों का हिन्दी अनुवाद टिकाऊ स्नेह और बड़े कौशल्य से जिन्होंने किया है, उन अनुवादक सहृदयों का मैं गहरा ऋणी हूँ। ये पुस्तक पढऩे वाले हिन्दीभाषी सहृदय पाठकों का सविनय धन्यवाद, जिनकी दृष्टि का जल मिलने से ही तो यह पन्ने पल्लवित होंगे। —सितांशु यशश्चन्द्र (प्रस्तावना से) ''हमारी परम्परा में गद्य को कवियों का निकष माना गया है। रज़ा पुस्तक माला के अन्तर्गत हम इधर सक्रिय भारतीय कवियों के गद्य के अनुवाद की एक सीरीज़ प्रस्तुत कर रहे हैं। इस सीरीज़ में बाङ्ला के मूर्धन्य कवि शंख घोष के गद्य का संचयन दो खण्डों में प्रकाशित हो चुका है। अब गुजराती कवि सितांशु यशश्चन्द्र के गद्य का हिन्दी अनुवाद दो जि़ल्दों में पेश है। पाठक पायेंगे कि सितांशु के कवि-चिन्तन का वितान गद्य में कितना व्यापक है—उसमें परम्परा, आधुनिकता, साहित्य के कई पक्षों से लेकर कुछ स्थानीयताओं पर कुशाग्रता और ताज़ेपन से सोचा गया है। हमें भरोसा है कि यह गद्य हिन्दी की अपनी आलोचना में कुछ नया जोड़ेगा।" —अशोक वाजपेयी

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Sitanshu Yashashchandra

    सितांशु यशश्चन्द्र

    (जन्म : १९४१) समकालीन गुजराती साहित्य के एक मूर्धन्य लेखक हैं—कवि, नाटककार, विचारक, अनुवादक। आपके रचनात्मक, आलोचनात्मक और अकादेमिक कार्यों की भूरि-भूरि प्रशंसा देश-विदेश में होती रही हैं। आप के.के. बिडला $फाउण्डेशन के सरस्वती सम्मान से विभूषित हैं और आपको केन्द्रीय साहित्य अकादेमी का पुरस्कार (१९८७), राष्ट्रीय कबीर सम्मान (म.प्र.), गंगाधर महेर सम्मान (ओडिसा), कवि कुसुमाग्रज राष्ट्रीय पुरस्कार (महाराष्ट्र) २०१३, नेशनल हारमनी अवार्ड, रंजीतराम सुवर्ण चन्द्रक (अहमदाबाद) १९८७, गुजरात गौरव पुरस्कार (२०१४) आदि प्राप्त हुए हैं। 

    अन्तरराष्ट्रीय फलक पर आपने अनेक संस्थानों, साहित्य-उत्सवों, विश्वविद्यालयों आदि में काव्य-पाठ किये हैं और अनेक देशों के प्रमुख निर्देशकों ने आपके नाटक मंचित किये हैं।

    सितांशु जी फुलब्राइट स्कॉलर रहे हैं और आपको फ़ोर्ड वेस्ट यूरोपियन शोध-वृत्ति भी प्राप्त हुई है। आपने सौराष्ट्र विश्वविद्यालय के कुलपति के रूप में अपनी सेवाएँ दी हैं और यूजीसी के एमेरिटस प्रोफ़ेसर भी रहे हैं। आप एम.एस. विश्वविद्यालय, बडौदा में गुजराती भाषा के प्रोफ़ेसर और अध्यक्ष रहे हैं और सोरबन विश्वविद्यालय (पेरिस), यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिल्विया, लॉयला मेरीमाउण्ट यूनिवर्सिटी (लॉस एंजिल्स) और जादवपुर विश्वविद्यालय (कोलकाता) में विजि़टिंग प्रोफ़ेसर भी रहे हैं।

    गुजराती भाषा में आपके चार से अधिक कविता-संग्रह, छ: नाटक और आलोचना-विमर्श की तीन पुस्तकें प्रकाशित हैं और अनेक कृतियों के देश-विदेश की भाषाओं में अनुवाद प्रकाशित हुए हैं।

    इन दिनों बडोदरा (गुजरात) में।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144