• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Abhinav Hindi Vyakaran

Abhinav Hindi Vyakaran

Availability: Out of stock

Regular Price: Rs. 395

Special Price Rs. 355

10%

  • Pages: 224p
  • Year: 2008
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Radhakrishna Prakashan
  • ISBN 13: 9788190272025
  •  
    यह पुस्तक केवल पुस्तक ही नहीं है बल्कि एक ऐसी व्याकरण अभ्यास-पुस्तिका है जिसे पढ़ने के बाद आप बखूबी समझ जाएँगे कि इसे आप तक पहुँचाने की आवश्यकता क्यों पड़ी । शिरोरेखा किसे कहते हैं; यह क्यों आवश्यक है; नुक्ता क्या है; बिन्दु-चन्द्रबिन्दु का प्रयोग कब-कब किया जाता है; श को कैसे-कब लिखा जाता है; ड/ड़ और ढ/ढ; में क्या अन्तर है; वर्णमाला कैसे याद की जाए; बारहखड़ी से मात्राएँ किस प्रकार सीखी जा सकती हैं; संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया किसे कहते हैं, सन्धि क्या है; समास किसे कहते हैं? -आदि छोटे-छोटे बिन्दुओं की जानकारी के साथ पत्र लिखने की कला पर भी प्रकाश डाला गया है । व्याकरण को गणित के माध्यम से समझने और पढ़ने का तरीका बताया गया है । जैसे- (1) संज्ञा के भेद-3; (2) सर्वनाम के-6 (3X2=6) (3) विशेषण के-4 (6-2=4) आदि । संविधान द्वारा स्वीकृत 18 भाषाओं को वर्ण वर्ग के हिसाब से 3,4,3,5, 3 (=18) में बाँटा गया है । पुस्तक में सर्वत्र मानक वर्तनी का प्रयोग किया गया है ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Meenakshi Aggarwal

    MeenakshiAggarwal

    • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
    • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
    • Funda An Imprint of Radhakrishna
    • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144