• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Aachaarya Badarinath Verma

Aachaarya Badarinath Verma

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 200

Special Price Rs. 180

10%

  • Pages: 155p
  • Year: 2011
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 13: 9788126720651
  •  
    आचार्य बदरीनाथ वर्मा ऐसे महापुरुष थे, जो अपनी आखिरी साँस तक राष्ट्र और राष्ट्रभाषा का सौभाग्य सँवारने के लिए सतत समुद्यत और सचेष्ट रहे | गांधी-युग के हिंदी-सेवी देशभक्तों में बदरी बाबू का स्थान बहुत ऊँचा है | उनका निरहंकार व्यक्तित्व, उनकी सदाशयता, सहृदयता, सादगी और सर्व-हित-कामना सचमुच मनुष्य-जाति के लिए गौरव का विषय है | राष्ट्रीय एकता की उद्बोधिका राष्ट्रभाषा हिंदी की जो आकार-कल्पना की गई है, बदरी बाबू मनसा-वाचा-कर्मणा उसके मूर्त रूप थे | गांधीवाद के अनन्य आग्रही बदरी बाबू हिंदी के लिए ही जिए और हिंदी के लिए ही मरे | वे गहन सात्त्विकता के साधु-पुरुष थे | विकट व्यस्तताओं में भी वे तुलसी के 'रामचरितमानस' और वेदव्यास की 'गीता' के पारायण तथा भक्ति-संगीत के श्रवण का समय निकाल ही लेते थे | संस्कृत, हिंदी, बांग्ला, उर्दू और अंग्रेजी के गम्भीर ज्ञाता बदरी बाबू को सम्पूर्ण 'गीता' कंठस्थ थी | निस्संदेह, जो कोई भी बदरी बाबू के जीवन-वृत्त का अनुशीलन करेगा, उसे उसमें सरलता, स्वच्छता, सच्चरित्रता, साहस और परम सत्ता के प्रति प्रपन्नता के उदात्त उदहारण उपलब्ध होंगे | जब महापुरुषों की बातें आती हैं, तब हमारा चित्त उनके उन जीवनादर्शों की ओर हठात उन्मुख हो उठता है, जो मनुष्य के यथार्थ उत्थान के आधारभूत उपादान हैं | उनके वे गुण सामने आ जाते हैं, जिनके मनन से लोक-जीवन सार्थक और समुन्नत होने को कटिबद्ध होता है | उनके उन सत्कर्मों के दर्शन होते हैं, जो हमारे भीतर साहस, स्वस्थता, शान्ति, प्रकाश, प्राण तथा शक्ति का संचार करते है |

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Dr. Kunal Kumar

    शिक्षा: एम.ए., पी-एच.डी. (पटना विश्वविद्यालय)।

    प्रकाशित कृतियाँ: कविता, समीक्षा एवं बाल साहित्य की सोलह पुस्तकें।

    सम्मान: बिहार सरकार द्वारा नवलेखन के लिए प्रथम पुरस्कार।

    सम्प्रति: मंत्रिमंडल सचिवालय (राजभाषा) विभाग, बिहार सरकार की पत्रिका ‘राजभाषा’ के सम्पादक।

    सम्पर्क: 290-ए, नेहरू नगर, पटना-800013।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144