• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

कुसुम खेमानी को 'कुसुमांजलि साहित्य सम्मान’

दिल्ली : 1 अगस्त, 2016 को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर, नई दिल्ली में सुपरिचित कथाकार कुसुम खेमानी को राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित उनके उपन्यास 'लावण्यदेवी’ के लिए कुसुमांजलि फाउंडेशन द्वारा 'कुसुमांजलि साहित्य सम्मान’, 2016 से सम्मानित किया गया। यह सम्मान उन्हें 'भारतीय सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद्’ के अध्यक्ष प्रो. लोकेश चन्द्र ने प्रदान किया। पुरस्कार-स्वरूप उन्हें शॉल, प्रशस्ति-पत्र,  प्रतीक-चिन्ह और ढाई लाख रुपए प्रदान किए गए। ज्ञात हो कि 'लावण्यदेवी’ का अनुवाद अंग्रेजी सहित कई भारतीय भाषाओं में प्रकाशित हो चुका है। इस पुरस्कृत कृति के अतिरिक्त उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं—हिन्दी नाटक के पाँच दशक (आलोचना); सच कहती कहानियाँ, आईना दिखाती कहानियाँ, पुल रचती कहानियाँ, एक अचम्भा प्रेम (कहानी-संग्रह); कहानियाँ सुनाती यात्राएँ (यात्रा-वृत्तान्त)।

कुसुम खेमानी साहित्यिक मासिक पत्रिका 'वागर्थ’ के सम्पादन से भी जुड़ी हैं। साहित्य व कला संस्कृति से सम्बद्ध सरकारी और गैर-सरकारी संस्थाओं में विभिन्न पदों पर उनकी सक्रिय भागीदारी भी रही है। वे हरियाणा सरकार द्वारा 'हरियाणा गौरव सम्मान’ और उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा 'साहित्य भूषण सम्मान’ से भी सम्मानित हो चुकी हैं।


Popular Books
  • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
  • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
  • Funda An Imprint of Radhakrishna
  • Korak An Imprint of Radhakrishna

Location

Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
Daryaganj, New Delhi-02

Mail to: info@rajkamalprakashan.com

Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

Fax: +91 11 2327 8144