• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

नाट्य-चिन्तन | Drama Studies

Showing 10 books of 21 books
Banyan Tree Books Lokbharti Prakashan Radhakrishna Prakashan Rajkamal Prakashan

per page
  1. 1
  2. 2
  3. 3
  1. Hindi Natak Ke Paanch Dashak

    Hindi Natak Ke Paanch Dashak

    Regular Price: Rs. 550

    Special Price Rs. 413

    25%

    हिंदी रंगमंच की परंपरा सन 1880 में पसरी थिएटर के माध्यम से आरम्भ होकर 1930 में समाप्त मानी जाती है, लेकिन स्वातंत्रयोत्तर हिंदी नाटकों के इतिहास में रंगमंचीय नाटकों की महत्त्वपूर्ण भूमिका है ! स्वातंत्रयोत्तर हिंदी नाटकों का आधुनिक दृष्टि से मूल्यांकन करने के लिए भाव-बोध और शिल्प्बोध, इन दोनों ही पहलुओं का अध्ययन आवश्यक है ! इस पुस्तक में समकालीन रंग-परिदृश्य के सन्दर्भ में स्वातंत्रयोत्तर हिंदी नाटकों में निहित आधुनिकता-बोध का अध्ययन, विवेचन और विश्लेषण किया गया है, और हिंदी रंग-नाटक की विशिष्ट उपलब्धियों एवं संभावनाओं को भारतीय और पाश्चात्य रंगमंचीय संदर्भो में जांचने-परखने की कोशिश भी हा ! आधुनिक हिंदी नाटक की प्रमुख विशेषताओं और प्रवृत्तियों के रेखांकन के साथ अंतिम डॉ अध्यायों में प्रस्तुत 'रंगानुभूति और रंगमंचीय परिवेश ' तथा 'रंग-भाषा की तलाश : उपलब्धि और सम्भावना' जैसे अत्यंत महत्तपूर्ण, प्रासंगिक और जटिल विषयों के विवेचन नाटक के गंभीर अध्येताओं के साथ-साथ शायद रंगकर्मियों के लिए भी उपयोगी सिद्ध होंगे !
  2. Parsi Theater : Udbhav Evam Vikash

    Parsi Theater : Udbhav Evam Vikash

    Regular Price: Rs. 600

    Special Price Rs. 450

    25%

  3. Natakkar Jagdish Chandra Mathur

    Natakkar Jagdish Chandra Mathur

    Regular Price: Rs. 250

    Special Price Rs. 188

    25%

    नाटककार जगदीशचन्द्र माथुर जयशंकर प्रसाद के बाद जगदीशचन्द्र माथुर की नाट्य कृतियाँ एक नई दिशा की ओर संकेत करती हैं । उनकी पहली कृति कोणार्क को आधुनिक नाटक का ऐसा प्रस्थान–बिन्दु माना जाता है जहाँ हिन्दी नाटक एक नए बोध के लिए आकुल हो रहा था । उन पर लिखी गोविन्द चातक की यह पुस्तक माथुर के कृतित्व को कई कोणों से देखने–परखने का एक प्रयास है । जिसमें नाट्य–रचना की मूल प्रेरणा, नाटककार की अनुभूति, युग और समाज– बोध, मानवीय संवेदना और नाटककार का जीवन– दर्शन तथा समकालीन ह्रासोन्मुखी प्रवृत्तियों से जूझने की क्षमता तक पहुँचने की सार्थक कोशिश की गई है । इस दृष्टि में यह पुस्तक पाठक को नाटककार की सर्जनात्मक क्षमता और भावात्मक परिवेश दोनों से अवगत कराती है ।
  4. Hindi Natak

    Hindi Natak

    Regular Price: Rs. 400

    Special Price Rs. 300

    25%

    भारत का राष्ट्रीय आन्दोलन वस्तुत: आम सहमतियों और व्यापक संयुक्त मोर्चों एवं सम्मिलित जन-आन्दोलन को लेकर राजनीतिशास्त्र की दुनिया में एक 'नई गतिकी' को निर्मित करता है, यह विश्व इतिहास में एक नई कड़ी है। गांधी विमर्श तो न केवल भारत में अपितु पूरे विश्व में बड़े दमखम के साथ चल रहा है पर जवाहरलाल के बारे में इस दौर में कुछ ही पुस्तकें बाजार में आ रही हैं, गांधी-नेहरू साझा विमर्श एक देर से ही सही लेकिन निहायत ही मौजूँ सिलसिला है। वैश्वीकरण के आक्रामक दौर में नेहरू जो एक स्वतंत्र वैकल्पिक अर्थतंत्र और राज्य सत्ता के स्थपति थे उन्हें भुला देना अस्वाभाविक नहीं लगता है। इस दौर में मौजूदा राज्य सत्ता से लेकर प्रमुख विपक्ष तक ने वैश्वीकरण और उदारीकरण को स्वीकार कर लिया है। साम्प्रदायिकता की तस्वीर में भी 1992 और 2002 के बाद शताब्दियों से चल रही मुश्तरका संस्कृति में दीमक लग गयी है। गनाटक एक श्रव्य-दृश्य काव्य है, अत: इसकी आलोचना के लिए उन व्यक्तियों की खोज जरूरी है जो इसके श्रव्यत्व और दृश्यत्व को एक साथ उद्घाटित कर सकें। वस्तु, नेता और रस के पिटे-पिटाए प्रतिमानों से इसका सही और नया मूल्यांकन संभव नहीं है और न ही कथा-साहित्य के लिए निर्धारित लोकप्रिय सिद्धांतों–कथावस्तु, चरित्र, देशकाल, भाषा, उद्देश्य से ही इसका विवेचन संभव है। प्रसाद के नाटकों में कुछ लोगों ने अर्थ प्रकृतियों, कार्यावस्थाओं और पंच संधियों को खोजकर नाट्यालोचन को विकृत कर रखा था। यह यंत्रगतिक प्रणाली किसी काम की नहीं है। इस पुस्तक में इन समीक्षा-पद्धतियों को अस्वीकार करते हुए पूर्व-पश्चिम की नवीनतम विकसित समीक्षा-सरणियों का आश्रय लिया गया है। लेखक का केंद्रीय विवेच्य है नाटक की नाट्यमानता। नाटक की भाषा हरकत की भाषा होती है, क्रियात्मकता की भाषा होती है। इसी से नाटक को विशिष्ट रूप मिलता है और वह सामाजिक-सांस्कृतिक सरोकारों को उजागर करती है। इसी से नाटककार की ऐतिहासिक विश्वदृष्टि का भी पता चलता है। हिंदी के कुछ शिखरों—अंधेर नगरी, स्कंदगुप्त, ध्रुवस्वामिनी, अंधायुग, लहरों के राजहंस, आधे-अधूरे पर विशेष ध्यान दिया गया है जो आज भी महत्त्वपूर्ण और प्रासंगिक हैं।ांधी को तो वैश्वीकरण के स्टीमरोलर ने बेरहमी से जमींदोज कर दिया है। ऐसे दौर में गांधी-नेहरू के ऐतिहासिक साझा और उनके कृतित्व पर पुन: रोशनी पडऩी चाहिए। प्रस्तुत पुस्तक दो महान स्वप्नद्रष्टाओं की यथार्थसम्मत विचारधारा को सप्रमाण रेखांकित करती है।
  5. Jaishankar Prasad: Rangshrishti

    Jaishankar Prasad: Rangshrishti

    Regular Price: Rs. 750

    Special Price Rs. 563

    25%

    जयशंकर प्रसाद के नाटक जिस कलात्मक तलाश की ओर संकेत करते हैं, उसमें व्यंजित होनेवाले वादी–विवादी दृश्यात्मक स्वर हमेशा से रंगकर्मियों और नाट्य–अध्येताओं के लिए चुनौती का विषय रहे हैं । अनेक रंगकर्मियों ने इस चुनौती को स्वीकार करते हुए, प्रसाद के समय से आज तक, अपने–अपने तरीके से, प्रायोगिक मंचन द्वारा उनके नाटकों के साथ रचनात्मक रिश्ता बनाने का प्रयास किया है । इन विभिन्न प्रयोगों द्वारा प्रसाद के रंगमंच की एक ऐसी रूपरेखा उभर रही है, जिसको प्रस्थान–बिंदु मानकर आगे का रास्ता तय किया जा सकता है । इसी उद्देश्य से रंग–अध्येता महेश आनंद ने इस पुस्तक में, प्रसाद के नाटकों से संबं/िात अहम सवालों को कुरेदते हुए, उनकी प्रस्तुतियों की प्रामाणिक सूचनाओं एवं महत्त्वपूर्ण प्रस्तुतियों के विस्तृत विवेचन के मा/यम से रंगकर्मियों के प्रयासों के अनेक पड़ावों को रेखांकित किया है । विभिन्न प्रस्तुतियों से जुड़े निर्देशकों के वक्तव्यों, साक्षात्कारों, पत्रों और दुर्लभ समीक्षाओं के मा/यम से प्रसाद की नाट्यकला तथा रंगकर्मियों की अंतर्दृष्टि का एक नया रूप उभरता है । वर्षों के अथक परिश्रम से एकत्रित महत्त्वपूर्ण दस्तावेज़ोंµदृश्य–रचना, वेशभूषा, रंगोपकरणों के रेखांकनों, स्मारिकाओं, प्रस्तुतियों के छायाचित्रों, पोस्टरोंµके द्वारा प्रसाद के नाटकों की रंगयात्रा की पहचान कराई गई है । एक तरह से यह सामग्री प्रसाद के मंचित नाटकों के रंग–इतिहास के साथ–साथ शौकिया मंडलियों की एक अंतरंग झलक भी प्रस्तुत करती है । हिंदी में प्रकाशित यह पहली पुस्तक है, जिसमें किसी नाटककार की रंगसृष्टि के विविध रूपों से साक्षात्कार करने की प्रक्रिया में प्रलेखन (डॉक्यूमेंटेशन) का महत्त्व दिखाया गया है । पुस्तक के पहले भाग जयशंकर प्रसाद % रंगदृष्टि में प्रसाद के रंग–परिवेश तथा रंग–चिंतन का विश्लेषण करते हुए उनके नाटकों के शिल्प और रंग–संभावनाओं को रेखांकित किया गया है ।
  6. Rangmanch ke Siddhant

    Rangmanch ke Siddhant

    Regular Price: Rs. 600

    Special Price Rs. 450

    25%

    रंगमंच के सिद्धान्त हिन्दी में एक ऐसी पुस्तक की लम्बे समय से प्रतीक्षा थी जो पूर्व और पश्चिम में प्रचलित नाट्य सिद्धान्तों को एक स्थान पर और सुग्राह्य भाषा में उपलब्ध कराती हो। ‘रंगमंच के सिद्धान्त’ इसी उद्देश्य की पूर्ति करती है। समकालीन रंगमंच के अध्येता महेश आनन्द तथा रंगकर्म के व्यावहारिक और सैद्धान्तिक पक्षों का एक-सी निष्ठा के साथ निर्वाह करते आ रहे सुपरिचित रंगकर्मी देवेन्द्र राज अंकुर के कुशल संपादन में तैयार इस पुस्तक में अरस्तू से लेकर भारतेन्दु और फिर बादल सरकार तक के रंग सिद्धान्तों का विवेचन अधिकारी विद्वानों और रंगकर्मियों द्वारा किया गया है। यह पुस्तक बताती है कि रंगमंच केवल किसी नाट्य कृति को अभिनेताओं द्वारा मंच पर खेल देना भर नहीं होता। समाज, मनुष्य, उसकी मनोरचना और नियति के साथ रंगमंच के सम्बन्ध को लेकर हर युग में चिन्तक और रंगकर्मी चिन्तन-मनन करते रहे हैं और मानव-जीवन की एक अधिकाधिक विश्वसनीय प्रतिकृति के रूप में रंगकर्म को स्थापित करने के लिए नई-नई शैलियाँ ढूँढ़ते और विकसित करते रहे हैं। उन तमाम सिद्धान्तों-शैलियों को प्रस्तुत करने की कोशिश की गई है जो अपने समय में रंगकर्म के लिए दिशा-निर्देशक बने और आज भी हमारी सोच को उत्तेजित करते हैं। जिन विचारकों के सिद्धान्तों का विश्लेषण किया गया है, वे हैं: अरस्तू, स्तानिस्लाव्स्की, मेयरहोल्ड, आर्तो, ब्रेष्ट, क्रेग, माइकेल चेख़व, ग्रोतोव्स्की, पीटर ब्रुक, ज़ेआमि, भरत, भारतेन्दु, प्रसाद और बादल सरकार।
  7. Rangmanch Ka Soundyashastra

    Rangmanch Ka Soundyashastra

    Regular Price: Rs. 250

    Special Price Rs. 188

    25%

    रंगमंच का सौन्दर्यशास्त्र देवेन्द्र राज अंकुर देवेन्द्र राज अंकुर ने अपनी इस पुस्तक में रंगमंच को सौन्दर्यशास्त्रीय दृष्टि से देखा है। यह पुस्तक रंगमंच के सौन्दर्यशास्त्र को व्याख्यायित करनेवाली हिन्दी में अपने ढंग की पहली पुस्तक है। यह सच है कि हिन्दी रंगमंच के प्रसिद्ध आलोचक नेमिचन्द्र जैन ने नाट्य-आलोचना पर केन्द्रित अपनी कृतियों में नाटक के सौन्दर्य-शास्त्र की अवधारणा को विकसित करने में मत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई लेकिन देवेन्द्र राज अंकुर की इस पुस्तक में ही सर्वप्रथम रंगमंच के सौन्दर्यशास्त्र को ठोस आधार मिला और इसकी सर्वांगीण विवेचना हुई। ‘रंगमंच का सौन्दर्यशास्त्र’ ऐसी पुस्तक है जो प्रमाणित करती है कि नाटक और रंगमंच के सौन्दर्यशास्त्रीय प्रतिमान किसी दूसरे कला-माध्यम का मिश्रित रूप नहीं, बल्कि एक स्वतंत्र और पृथक अस्तित्ववाला सौन्दर्यशास्त्र है। यह पुस्तक प्रकारान्तर से यह सवाल भी उठाती है कि नाटक और रंगमंच में लिखित आलेख और उसकी प्रस्तुति का क्या कोई अलग-अलग सौन्दर्यशास्त्र होना चाहिए? अथवा दोनों के लिए एक शास्त्र से काम चल सकता है? नाटक व उसकी प्रस्तुति से पहले रंगमंच के सौन्दर्यशास्त्र पर एक संवाद आरम्भ करने की कोशिश भी है यह पुस्तक।
  8. Padhte Sunte Dekhte

    Padhte Sunte Dekhte

    Regular Price: Rs. 400

    Special Price Rs. 300

    25%

    पढ़ते सुनते देखते यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि हिन्दी परिदृश्य में देवेन्द्र राज अंकुर हमारे समय के सबसे विश्वसनीय और सक्रिय रंग-चिंतक हैं। वे जिस दृष्टि से समकालीन रंगकर्म को देख रहे हैं, वह कहीं से उधार ली हुई नहीं, उनके अपने रंगानुभव से अर्जित की हुई है। अपनी बात को वे आम पाठक के, तक़रीबन बातचीत के, मुहावरे में कहते हैं। शायद यही कारण है कि रंगमंच के छात्र, रंगकर्मी, दर्शक और सामान्य पाठक - सभी उन्हें बड़े प्रेम और भरोसे के साथ पढ़ते रहे हैं। हिन्दी में रंगमंच विषयक अच्छी और समकालीन सरोकारों से लैस पुस्तकों के अभाव को भी उन्होंने काफ़ी हद तक पूरा किया है। यह पुस्तक नाटक के पाठ को पढ़ने, नाटककार की ज़बानी उसे सुनने और अंत में निर्देशक के हाथों से गुज़रने के बाद देखने - इन तीनों चरणों से होकर गुज़रती है। कोई संवादपरक पाठ नाटक कैसे बनता है, अभिनेताओं द्वारा खेले गये किसी खेल को कब एक सफल प्रस्तुति कहा जाए, मंच के लिए अव्यावहारिक मानी जाती रही नाट्य रचनाएँ कैसे किसी कल्पनाशील निर्देशक के हाथों में आकर यादगार मंच रचनाएँ हो गईं और किन-किन व्यक्तियों ने बाक़ायदा संस्थाओं की हैसियत से भारतीय रंगमंच को नई पहचान व अस्मिता दी, उनकी रचना-प्रक्रिया क्या रही - यह सब पढ़ते सुनते देखते की विषयवस्तु है। इधर कई विश्वविद्यालयों में थिएटर को एक विषय के रूप में भी पढ़़ाया जाना शुरू किया गया है। इस लिहाज से यह पुस्तक विशेष महत्त्व रखती है। हमें पूरा विश्वास है कि सिद्धान्त और व्यवहार के बीच से अपना रास्ता तलाश करती यह पुस्तक उन सबके लिए उपादेय साबित होगी जो वर्तमान हिन्दी रंगमंच की सम्यक् समझ हासिल करना चाहते हैं।
  9. Natakkar Jaishankar Prasad

    Natakkar Jaishankar Prasad

    Regular Price: Rs. 990

    Special Price Rs. 743

    25%

per page
  1. 1
  2. 2
  3. 3
Categories of All Publications
  1. Bestsellers
  2. अमर आख्यान | Epic
  3. अर्थशास्त्र | Economics
  4. आगामी पुस्तकें | Upcoming
  5. आत्मकथा | Autobiography
  6. आदिवासी साहित्य | Adivasi Literature
  7. आलोचना | Literary Criticism
  8. इतिहास | History
  9. ई-बुक्स | E-books
  10. उपन्यास | Fiction : Novels
  11. कला और संस्कृति | Art and Culture
  12. कविता | Poetry
  13. कहानी | Fiction : Stories
  14. कानून | Law
  15. किशोर-साहित्य | Kishor-Sahitya
  16. कोश-ग्रन्थ | Cyclopedia
  17. क्रान्तिकारी साहित्य | Revolutionary Literature
  18. खेल | Sports
  19. गीत | Lyrics
  20. चिन्तन | Thought
  21. जीवनी | Biography
  22. डायरी | Diary
  23. दर्शनशास्त्र | Philosophy
  24. दलित साहित्य | Dalit Literature
  25. धर्म-मीमांसा | Religion
  26. नवगीत | Navgeet
  27. नाटक | Play
  28. नाट्य-चिन्तन | Drama Studies
  29. निबन्ध | Essay
  30. पत्र-साहित्य | Letters
  31. पर्यावरण | Environment
  32. पुरस्कृत पुस्तकें | Awarded Books
  33. प्रकृति | Nature
  34. प्रबन्धन | Management
  35. प्रशासन | Administration
  36. बाल-पुस्तकें | Children Books
  37. भाषा-विज्ञान | Linguistics
  38. भाषा-शिक्षण | Language Teaching
  39. मनोविज्ञान | Psychology
  40. यात्रा-वृत्तान्त | Travelogue
  41. योजना | Planing
  42. राजनीति | Politics
  43. रिपोर्ताज | Reportage
  44. रेखाचित्र | Sketch
  45. विचार | Ideology
  46. विज्ञान | Science
  47. विमर्श | Discourse
  48. विश्व क्लासिक | World Classic
  49. व्यंग्य | Satire
  50. व्यक्ति-चित्र | Portrait
  51. व्यक्तित्व विकास | Self Help
  52. व्याकरण | Grammer
  53. शब्द-कोश | Dictionary
  54. शब्दों का उजियारा [ दिवाली पर 35% की महाछूट ]
  55. शायरी | Shayari
  56. शिक्षा | Education
  57. संगीत | Music
  58. संचयन | Sanchayan
  59. संचार मीडिया | Communication and Media Studies
  60. संस्मरण | Memoirs
  61. समझदार बुक्स | Samajhdar Books
  62. समाज-विज्ञान | Social Science
  63. समाजशास्त्र | Sociology
  64. सम्पूर्ण रचनाएँ | Collected Works
  65. साक्षात्कार | Interview
  66. सिनेमा | Cinema
  67. सूचना का अधिकार | Information Studies
  68. स्त्री-विमर्श | Women Studies
  69. स्वास्थ्य | Health and Fitness
  • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
  • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
  • Funda An Imprint of Radhakrishna
  • Korak An Imprint of Radhakrishna
Location

Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
Daryaganj, New Delhi-02

Mail to: info@rajkamalprakashan.com

Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

Fax: +91 11 2327 8144